सुदामा चरित्र की कथा सुन भाव विभोर हुए श्रद्धालु, कथा समापन के दौरान पहुंचे राज्य मंत्री नरेन्द्र विरथरे - Shivpuri News

शिवपुरी। शहर के शांति नगर मे चल रही भागवत कथा का समापन आज सुदामा चरित्र के वर्णन के साथ हुआ। कथा व्यास मुकेश शास्त्री द्वारा सुदामा चरित्र का वर्णन किए जाने पर पंडाल में उपस्थित श्रोता भाव-विभोर हो गए। कथा व्यास ने सुदामा चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि मित्रता करो, तो भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा जैसी करो। सच्चा मित्र वही है, जो अपने मित्र की परेशानी को समझे और बिना बताए ही मदद कर दे। परंतु आजकल स्वार्थ की मित्रता रह गई है। जब तक स्वार्थ सिद्ध नहीं होता है, तब तक मित्रता रहती है। जब स्वार्थ पूरा हो जाता है, मित्रता खत्म हो जाती है।

उन्होंने कहा कि एक सुदामा अपनी पत्नी के कहने पर मित्र कृष्ण से मिलने द्वारकापुरी जाते हैं। जब वह महल के गेट पर पहुंच जाते हैं, तब प्रहरियों से कृष्ण को अपना मित्र बताते है और अंदर जाने की बात कहते हैं। सुदामा की यह बात सुनकर प्रहरी उपहास उड़ाते है और कहते है कि भगवान श्रीकृष्ण का मित्र एक दरिद्र व्यक्ति कैसे हो सकता है।

प्रहरियों की बात सुनकर सुदामा अपने मित्र से बिना मिले ही लौटने लगते हैं। तभी एक प्रहरी महल के अंदर जाकर भगवान श्रीकृष्ण को बताता है कि महल के द्वार पर एक सुदामा नाम का दरिद्र व्यक्ति खड़ा है और अपने आप को आपका मित्र बता रहा है। द्वारपाल की बात सुनकर भगवान कृष्ण नंगे पांव ही दौड़े चले आते हैं और अपने मित्र को रोककर सुदामा को रोककर गले लगा लिया।

आज कथा समापन के दिवस पर राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त नरेन्द्र विरथरे अपने बेटे सौरभ विरथरे के साथ पहुंचे, जिन्होने माला पहनाकर कथा व्यास मुकेश शास्त्री जी का स्वागत किया और सुदामा चरित्र की कथा सुनकर मंत्रमुग्ध हो गए। इनके अलावा विजय शर्मा, राम कोठारी, सुनील उपाध्याय, अतुल उपाध्याय और कपिल उपाध्याय भी समापन कथा में उपस्थित रहे।