आखिर पटेल नगर के मुहाने पर पहुंचकर क्यों हांफ जाती है नपा की JCB, 12 साल में एक बार भी उपस्थिति नहीं हुआ अतिक्रमणधारी

शिवपुरी। नगर पालिका क्षेत्र शिवपुरी के वार्ड 31 अंतर्गत आने वाले पटेल नगर इलाके में बने पटेल पार्क के बाहर की अतिक्रमण ग्रस्त भूमि को नपा 12 बर्ष बाद भी मुक्त कराने की मंशा नहीं बना पा रही। जिला प्रशासन द्वारा कई बार स्पष्ट आदेश देने के बाद नपा कागजी दिखावा करने की मंशा से अतिक्रमण मुक्त करने की तिथि निर्धारित कर पुलिस बल बुलाने पत्र भी लिख देती है और दिखावा करने वँहा अधूरे मन से पहुँच भी जाती है।

लेकिन अतिक्रमण हटाने से पहले नपा की हिटेची हांफ जाती है और लौट आती है,खास बात यह है कि ऐसा एक बार नहीं कई बार हो चुका,हाल ही में नपा मय पुलिस बल के एक सप्ताह में 2 बार वँहा मय दल बल के गई लेकिन बिना हटाये लौट आयी,यह भी वह तब कर रही है जब कि पिछले 12 वर्षों में एक बार भी दस्तावेज में दर्ज कब्जा धारी नपा के सामने प्रस्तुत नहीं हुआ।

एक अन्य भू माफिया के लोग वँहा आते है जिनकी मिलीभगत नपा की राजस्व शाखा से जुड़े दो कर्मचारियों से है,उन्ही की मदद से वह कार्यवाही अंजाम से पहले कोई न कोई वहाना बनाकर रुकवा देते हैं।अंतिम बार नपा सीएमओ स्वयं दल बल के साथ 1 अप्रैल को मौके पर पहुँचे तब कब्जाधारी को यह कहकर 12 घण्टे का समय दे दिया गया कि उसे सामान निकाल लेने दो,यह जानना किसी ने उचित नही समझा कि उसमे सामान है भी अथवा नहीं।

अब समय देने के 4 दिन बाद भी नपा ने उक्त अतिक्रमण हटाने की सुध नहीं ली। कुल मिलाकर नपा अपने ही अधीनस्थ कर्मचारियों की मिलीभगत की बजह से 12 बर्ष बाद भी शासकीय भूमि को अतिक्रमण से मुक्त नही करा पा रहा है जबकि प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह का बुल्डोजर ऐसे भूमाफिया और अपराधियों पर खूब गरज रहा है।

31 दिसम्बर 2010 को एसडीएम कार्यालय कर चुका आदेश

गजराज सिंह पुत्र अज्जू रावत नाम के जिस कब्जाधारी का उक्त कब्जा बताया जाता है वह 12 वर्षों में कभी अपना पक्ष रखने पेश नहीं हुआ इसी वजह से एसडीएम कार्यालय ने उक्त भू माफिया पर न सिर्फ 6 लाख 50 हजार का जुर्माना किया बल्कि उक्त भूमि को शासकीय घोषित करते हुए विक्रय से वर्जित किया,इस आदेश के खिलाफ आज दिनांक तक कोई स्थगन आदेश नहीं आया।

अतिक्रमण हटे तो पटेल पार्क की सौंदर्यता में लग जायेंगे चार चांद

नपा द्वारा निर्मित पटेल पार्क की लोकप्रियता समूचे अंचल में हो चुकी है,यही बजह है कि यंहा सैलानियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है,इस पार्क के वाहर जंहा यह अतिक्रमण भूमि है वँहा रास्ता महज 15 फुट है यदि यह अतिक्रमण हट जाता है तो पार्क का मुख्य मार्ग 30 से 35 फुट चौड़ा हो जायेगा जिससे पार्क की सुंदरता में और भी निखार आ जायेगा।