3 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से 2 संक्रमित मरीज लापता: असमर्थ हैं CMHO सैंपलिंग बढ़ाने में - Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी में बीता शुक्रवार भारी पड गया,शुक्रवार को जिले में 3 मरीजों की कोविड 19 की जांच रिर्पोट कोरोना पॉजिटिव आई हैं। इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि एक मरीज जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं,लेकिन 2 संक्रमित मरीज लापता हैं। इन पहचान तो स्वास्थ्य विभाग के पास हैं,लेकिन यह लापता हैं। ऐसे में यह जहां होंगे संक्रमण डोनेट कर रहे होंगे, इस कारण विभाग लापता हैं,वही सीएमएचओ ने सैंपल बढ़ाने के मामले में अपने हाथ खडे कर लिए हैं।

2 मरीज लापता:कैसे अपटेड होगी ट्रेवल हिस्ट्री

जिले में 3 मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने तीनो संक्रमित मरीजो की ट्रेवल हिस्ट्री ट्रेस करने की कोशिश करने का प्लान बनाया,लेकिन जब जानकारी मिली की जो 3 मरीज संक्रमित मिले हैं उनमे से 2 मरीजों ने जांच के समय जो अपने मोबाईल नंबर दिए हैं वह गलत आ रहे हैं,इस कारण यह दोनों मरीज अभी लापता हैं। यह मरीज कहां हैं किसी को जानकारी नहीं हैं,अब ऐसे में सबसे पहले तो इन्है तलाशना हैं जब जाकर उनकी ट्रेवल हिस्ट्री संज्ञान में आएँगी,लेकिन उससे पहले यह संक्रमण को डोनेट करते हुए घूम रहे होगें,यह जानकारी भी नही है कि इन मरीजो को पता है कि नही की वह कोविड 19 के शिकार हो चुके हैं।

कलेक्टर ने सैंपलिंग बढ़ाने को कहा,CMHO ने खडे किए हाथ

शुक्रवार को एक साथ तीन कोरोना‎ पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद प्रशासन और‎ स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप है। ऐसे में कलेक्टर‎ ने बतौर एहतियात सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दे‎ दिए हैं। वहीं CMHO डॉ. पवन जैन का‎ कहना है कि कर्मचारियों की कमी है। ऐसे में‎ सैंपलिंग कैसे बढ़ाएं। हालांकि उनका यह भी‎ कहना है कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और‎ जिला स्तर पर सैंपलिंग बढ़ाएंगे। साथ ही‎ कर्मचारियों के लिए कलेक्टर के माध्यम से‎ शासन को पत्र लिखेंगे।

स्वास्थ्य विभाग की‎ परेशानी यह है कि उसके पास कर्मचारियों का‎ टोटा है। 31 मार्च को 200 से अधिक‎ कर्मचारी कोरोना ड्यूटी से बाहर हो चुके हैं।‎ दरअसल कोरोना मरीजों की टेस्टिंग के लिए‎ जिन कर्मचारियों पर दारोमदार था, वे अस्थायी‎ रूप से रखे गए थे। ऐसे 200 से अधिक‎ डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को 31 मार्च‎ को हटा दिया गया है। शुक्रवार को 38 मरीजों‎ की सैंपल जांच में एक साथ 3 कोविड‎ पॉजिटिव मिले तो प्रशासन और स्वास्थ्य‎ विभाग में हड़कंप मच गया। कलेक्टर ने‎ तत्काल सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दे दिए‎ लेकिन CMHO सबसे बड़ा संकट स्टाफ‎ की कमी होना बता रहे हैं।‎