हेरिटेज वॉक: टूसीटर रोक रहा हैं टूरिज्म, टूरिज्म पर ट्रेरर का भी असर, भव्यता तो थी लेकिन सार्थक नहीं रही यात्रा - Shivpuri News

शिवपुरी। आज पर्यटन संवर्धन बोर्ड की सचिव एवं डिप्टी कलेक्टर श्रीमती शिवांगी अग्रवाल के मार्गदर्शन में 27 मार्च को प्रातः 6 बजे से शिवपुरी शहर में हेरिटेज वॉक का आयोजन किया गया। इस वॉक का आयोजन DATCC की ओर से किया गया था। इस वॉक का उद्देश्य युवाओं को अपनी शिवपुरी के पर्यटन को और अधिक से करीब से जानने का था। इस वॉक में सभ्यता थी लेकिन उद्देश्य सार्थक नहीं हुआ। टूरिज्म के जानकारों ने अपने विचार व्यक्त किए कि टूसीटर रोक रहा हैं टूरिज्म,कही टूरिज्म पर ट्रेरर का भी असर हैं।

जैसा कि विदित है कि इस हेरिटेज वॉक का आयोजन शहर के युवाओं को अपनी शिवपुरी से और अधिक करीब लाना था। यह वॉक वेलकम टूरिज्म सेंटर से शुरू हुई और छत्री होते हुए बाणगंगा से भदैया कुण्ड पर समाप्त हुई। इस वॉक में बच्चों के साथ शिवपुरी कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह,पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल पर्यटन संवर्धन बोर्ड की सचिव एवं डिप्टी कलेक्टर श्रीमती शिवांगी अग्रवाल शामिल हुई।

वही इस यात्रा में आम युवा शामिल नहीं हुए बल्कि स्कूली स्टूडेंट्स को शामिल किया गया। साथ में शिक्षा विभाग के शिक्षक और वह बच्चे शामिल हुए जो किसी ने किसी खेल की प्रशिक्षण ले रहे थे। इस यात्रा का प्रथम पड़ाव छत्री था यहां स्टूडेंट को सबसे पहले छत्री में स्थित धूप घडी,कदम के पेड़ और छत्री में किस पत्थर में उपयोग हुआ साथ में छत्री में जो गढाई है वह किस शैली की है इसके विषय में बताया गया। वही बाण गंगा पर 52 कुंडों के विषय में बताया और भदैया कुंड का इतिहास से बच्चों को परिचित कराया। इस यात्रा में 6 साल से लेकर 20 साल तक स्टूडेंट थे।

टूसीटर रोक रहा हैं टूरिज्म

छत्री ट्रस्ट के अधिकारी अशोक मोहिते ने कहा कि शिवपुरी में अब टूरिज्म की संभावना प्रबल है पहले सडके नही थी,अब सडके हैं प्रचार प्रसार भी किया जा रहा हैं। शिवपुरी को टूरिज्म के नक्शे पर लाने के लिए प्रशासन के साथ साथ शिवपुरी वासियो को भी प्रयास करना होगा। आने वाले टूरिज्म का भरोसा जितना होगा,उसके साथ अतिथि देवो भव:का व्यवहार करना होगा। आम नागरिकों के साथ साथ टूसीटर वालों को इसके लिए प्रशिक्षण देना होगा। शिवपुरी के टूरिज्म के साथ साथ पूरे जिले के टूरिज्म के विषय में वह बताए। होटल संचालकों को भी ध्यान देना होगा कि टूरिस्ट के साथ ऐसा व्यवहार हो जिससे वह वापस जाकर अपने जिले की निगेटिव छबि न बनाए।

टूरिज्म में ट्रेरर भी बना हैं बाधा

कुछ टूरिज्म के जानकारों का कहना था कि अब जिले में डकैतों की समस्या के कारण ही टूरिज्म चैन से शिवपुरी अलग हो जाता था। टूरिस्ट दिल्ली आगरा ग्वालियर से होते हुए शिवपुरी को काटते हुए झांसी का रास्ता पकडता है ओरछा से होते हुए खजुराहो निकल जाता था। कही न कही ट्रेरर भी टूरिज्म में बाधा बना है। वही एस मामले में एसपी शिवपुरी राजेश सिंह चंदेल ने कहा कि अब 2007 से कोई भी गैंग लिस्टेड नहीं हैं। टूरिज्म के लिए अब पुलिस की गश्त मोबाइल बडाई जाऐगी। हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाएगा,पूरे प्रयास किए जाएंगे कि टूरिस्ट को कोई समस्या न हो।