बड़ी खबर: SDM व तहसील न्यायालय से फाइलें गायब, पक्षकार और फरियादी परेशान - Shivpuri News

पवन पाठक@ पिछोर। लोकतंत्र में न्याय व्यवस्था शरीर में रीड के समान है जिसमें लोगों का भरोसा रहना चाहिए पिछोर स्थित तहसील एवं एसडीएम न्यायालय में भ्रष्टाचार के मामले तो पहले भी सामने आए लेकिन अब न्यायिक कार्यालयों में तैनात बाबू और जिम्मेदार अधिकारियों की लेतलाली और भ्रष्टाचार इस हद तक पहुंच गया कि लोगों के न्याय प्रकरण से संबंधित फाइलें भी गायब होने लगी है और फरियादी लोग महीनों न्याय के लिए चक्कर लगा रहे हैं।

जानकारी देते हुए लहर्रा निवासी मनोज कुमार पुत्र द्वारका प्रसाद अहिरवार ने बताया कि पिछोर तहसील न्यायालय से लगभग 19 से अधिक फाइले गायब है वर्ष 1998 -99 मैं भूमिहीनों के लिए कलेक्टर के आदेश से तहसीलदार द्वारा खनियाधाना तहसील स्थित कुछ ग्रामों में पट्टे दिए गए थे वही 2001 और 2002 मैं भी पट्टे हुए थे इस संबंध में खनियाधाना तहसील से अमल हेतु पिछोर तहसील में फाइलें आई 23 मार्च 2016 में पिछोर तहसील कार्यालय में पदस्थ लीडर चित्रांश श्रीवास्तव बाकायदा प्राप्ति देकर फाइलें प्राप्त की जिसमें कमालपुर किशनपुरा चंदू पहाड़ी गगरेठा मादोन कला बनोटा हिनोतिया चिरौना सालोरा गढ़वाली गूगरी मानपुर आदि ग्रामों की फाइलें गायब हैं।

पट्टे धारियों के साथ-साथ फरियादी मनोज कुमार बताते हैं कि कलेक्टर को जनसुनवाई मैं 3 माह पूर्व आवेदन लगाया पिछोर एसडीएम के अलावा राजस्व मंडल मुख्य सचिव भोपाल को भी शिकायत दर्ज कराई लेकिन एसडीएम और तहसीलदार खनियाधाना से पिछोर और पिछोर से खनियाधाना दौड़ा रहे हैं पर फाइलों का कहीं अता पता नहीं इसके अलावा गए वर्ष पिछोर मैं बड़ी मात्रा में स्कूलों में मध्यान्ह भोजन सेवा में लगे समूह को बदला गया था जिनकी भी फाइलें गायब हैं।

खैरवास ग्राम पंचायत का एक प्रकार का समूह सोरेन स्व सहायता समूह की अध्यक्षा ममता आदिवासी बताती है कि कार्यालय से हमारे स्व सहायता समूह की अपील की फाइल भी गायब है जिस पर एडीएम उमेश शुक्ला ने एसडीएम कार्यालय में पदस्थ बाबू अंकित व्यास पर 500 रुपए का जुर्माना भी लगाया है इसके अलावा खाती बाबा स्व सहायता समूह भौती की अध्यक्षा मीरा शर्मा ने भी फाइलें गायब होने का आरोप लगाया हैं।

बात यहीं नहीं रुकती पिछोर के वरिष्ठ एडवोकेट महेंद्र सिंह मोदी के अनुसार अपील माल की उनके पक्ष कार जगदीश आदि जिसका प्रकरण अच्छेलाल बनाम जगदीश आदि निवासी प्राणपुरा एसडीएम न्यायालय से फाइल गायब है कलेक्टर से लेकर एसडीएम और अन्य जगह कई बार लिखित व मौखिक शिकायत दर्ज करा दी गई लेकिन फाइल नहीं मिली।