बिजली कंपनी के AE और JE जान बचाकर भागे, बिजली चोरों ने हमला कर दिया था- Shivpuri City news

शिवपुरी। रिश्वतखोरी के कारण आम जनता में सरकारी अधिकारियों का सम्मान और कानून का डर खत्म होता जा रहा है। कानूनी कार्रवाई के नाम पर अवैध वसूली के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। चीलौद क्षेत्र में बिजली चोरी पकड़ने आए बिजली कंपनी के अधिकारियों को जनता ने चारों तरफ से घेर लिया। AE और JE सहित पूरी टीम को जान बचाकर भागना पड़ा।

जनता ने कहा कि कंपनी के कर्मचारी घरों में घुस रहे थे

बिजली‎ कंपनी के एई ने फिजिकल थाने में‎ FIR के लिए आवेदन दिया‎ है। वहीं चीलौद क्षेत्र के लोगों ने भी‎ आवेदन देकर आरोप लगाया है कि‎ बिजली कंपनी के कर्मचारी जबरन‎ घर में घुस रहे थे।‎ बिजली कंपनी के अधिकारियों‎ का कहना है कि चीलौद क्षेत्र में‎ 1800 उपभोक्ताओं में से‎ बमुश्किल 15% ही बिजली बिल‎ जमा कर रहे हैं जबकि शेष 1500‎ से अधिक घरों में हीटर जलाकर‎  बहुत ज्यादा मात्रा में बिजली चोरी‎ की जा रही है।

बिजली कंपनी अधिकारियों के पास सिर्फ कहानी है, सबूत नहीं है

अनुमान के आधार‎ पर हर महीने 25 से 30 लाख रु.‎ की बिजली चोरी जा रही है। कंपनी‎ के पूर्व क्षेत्र के एई जेएम श्रीवास्तव,‎ जेई विजय सोनी, लाइन स्टाफ और‎ तनी सुरक्षा गार्डों के साथ शनिवार की‎ सुबह 10 बजे चीलौद टंकी के पास‎ पहुंचे। कुछ घरों में दबिश देकर‎ 10-12 हीटर ही जब्त किए, तब‎ तक भारी भीड़ जमा हो गई। कंपनी‎ की टीम को लोगों ने घेर लिया और‎ नारेबाजी करने लगे। महिलाएं व‎ बच्चों को आगे कर दिया और हंगामे‎ के बीच हालात बिगड़ते देख कंपनी‎ वाले भागे लगे तो पथराव होने‎ लगा। 

कुछ सवाल जो इस कहानी पर संदेह पैदा करते हैं 

पथराव हुआ तो फिर किसी को चोट क्यों नहीं आई। 
एक भी पत्थर किसी भी वाहन पर क्यों नहीं गिरा। 
जो हीटर और वायर जप्त किए थे वह कहां है।
कार्रवाई के दौरान बिजली कंपनी के अधिकारियों ने वीडियो क्यों नहीं बनाया। 
जब इलाका संवेदनशील था तो पुलिस को साथ लेकर क्यों नहीं गए।

हम पूरे इलाके की बिजली काट देंगे: AE श्रीवास्तव

एई‎ श्रीवास्तव का कहना है कि हिम्मत‎ जुटाकर कार्रवाई करने पहुंचे थे।‎ अब घटना के बाद सुबह 6-12‎ बजे तक बिजली काटने के अलावा‎ कोई विकल्प नहीं है। इस मामले में‎ थाना प्रभारी कृपाल सिंह का कहना‎ है कि दोनों पक्षों से आवेदन मिले‎ हैं। मामले की जांच कर रहे हैं।‎

ट्रांसफार्मर फुंकने से‎ हर माह 13 लाख रु.‎ का नुकसान‎: AE श्रीवास्तव

चीलौद क्षेत्र में ज्यादा लोड रहने से‎ कंपनी ने 200 केवीए का बड़ा‎ ट्रांसफार्मर रखवाया है। इसके बाद भी‎ हर दो से चार दिन में ट्रांसफार्मर फुंक‎ रहा है। ट्रांसफार्मर बदलने से हर बार‎ 1.75 लाख रु. खर्च हो रहे हैं। महीने‎ का आंकलन करें तो 13 लाख से‎ ज्यादा का नुकसान हो रहा है।‎

अगली बार पुलिस की मदद लेंगे: पीआर पाराशर, एसई, सर्किल‎ ऑफिस 

कार्रवाई में मदद के‎ लिए जल्द एसपी से‎ बातचीत करेंगे‎ चीलौद क्षेत्र में इस तरह की घटना‎ पहले भी हो चुकी है। हर महीने‎ 25-30 लाख रु. की बिजली चोरी‎ हो रही है। प्रशासन-पुलिस से‎ कार्रवाई में मदद लेंगे। कार्रवाई में‎ मदद के लिए जल्द एसपी से‎ बातचीत करेंगे। वरिष्ठ स्तर पर भी‎ अवगत करा रहे हैं।‎ : पीआर पाराशर, एसई, सर्किल‎ ऑफिस बिजली कंपनी शिवपुरी‎