फिजिकल के खान परिवार को जंगल में लूटा, बेरहमी से पीटा- Shivpuri City News

शिवपुरी। भोपाल से शिवपुरी अपनी स्विफ्ट कार से लौटते समय फिजिकल थाना क्षेत्र का एक मुस्लिम परिवार लूट का शिकार हो गया। रुठियाई थाना क्षेत्र के जंगल मेें कट्टे से लैश 8-10 बदमाशों ने पहले उनकी कार को रांपी लगाकर पंचर किया और इसके बाद कार में मौजूद दोनों भाईयों की लाठियों से पिटाई लगाई।

जिससे अरशद उर्फ गोलू का सिर फूट गया। इसके बाद बदमाशों ने 15 हजार रुपए नगद, 2 सोने की चैन, घड़ी, सोने का कड़ा, सोने के बाले, अंगूठी, मोबाइल फोन आदि की लूटपाट की। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश भाग निकलें। इस मामले में धरनावदा पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े हुए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार फिजिकल थाना क्षेत्र निवासी सोहित खान पुत्र इरफान खान और उसका भाई अशरद उर्फ गोलू पुत्र इरशाद खान 7 जनवरी की रात्रि को उज्जैन के लिए रवाना हुए। उज्जैन में अशरद अपनी पत्नी  जेवा खान को लेने के लिए गया था।

इसके बाद तीनों और एक छोटा बालक उज्जैन से भोपाल गए। वहां से जब वह लौट रहे थे तो रुठियाई थाना क्षेत्र में बदमाशों ने रांपी लगाकर उनकी कार को पंचर कर दिया। कार पंचर होने के बाद जब सोहिल खान अपनी जर्किन उतारकर कार का पहिया बदल रहा था, उसी समय कट्टे से लैश 8-10 बदमाश वहां आ गए और उन्होंने पहिया बदल रहे सोहिल खान को पकड़कर उसे पीटना शुरू किया।

इससे घबराकर सोहिल खान वहां से भाग निकला। तत्पश्चात बदमाश कार के नजदीक आए जहां उन्होंने गाड़ी में बैठे अरशद उर्फ गोलू की मारपीट शुरू की तथा उसका सिर फोड दिया। बदमाशों ने उसके पास मौजूद सोने की चैन, घड़ी, 15 हजार रुपए नगद और सोने का कड़ा छीन लिया। यह देखकर उसकी पत्नी जेवा उसके बचाव में सामने आई और उसने बदमाशों से कहा कि तुम्हे जो चाहिए वह हमसे ले लो। लेकिन किसी को मारो पीटो मत।

इसके बाद बदमाशों ने जेवा खान के पास मौजूद सोने की चैन, अंगूठी, सोने के वाले, पायल आदि छीन लिए। बदमाशों ने सोहिल खान की जर्किन में रखे 5 हजार रुपए भी निकाल लिए। बदमाशों ने भयभीत करने के लिए हवा में कट्टे से फायर भी किए। लगभग आधा घंटें में लूट की वारदात को अंजाम देकर लुटेरे भाग निकलें।

पुलिस की भूमिका पर उठे सवाल
वारदात के बाद दोनों भाईयों ने धरनावदा थाने के दरोगा अरुण सिंह भदौरिया को कई बार फोन लगाया। लेकिन उन्होंने फोन अटेंड नहीं किया। किसी तरह से दोनों भाई थाने पहुंचे। जहां उन्होंने पुलिस को पूरी घटना बताई। बताया जाता है कि इसके बाद पुलिस ने कुछ बदमाशों को उठाया और दोनों भाइयों से उनकी पहचान कराई। लेकिन दोनों भाईयों ने उन्हें पहचानने से इंकार कर दिया।