जप्त की रेत को भरकर ले गए माफिया,कलेक्टर के आदेश का पालन नहीं करा पा रहे SDM - Pichhore News

पिछोर। खबर जिले के पिछोर से आ रही है। जहां प्रशासन की मिली भगत से अवैध रेत उत्खनन डंप कर रखी 500 चक्कर ट्राली कलेक्टर के आदेश को ठेंगा दिखा रहे हैं। खनन माफिया पिछोर किशनपुरा फुटिबार तालाब के बांध के नीचे पुरानी नहर के पास फूटी बार नदी से डंपिंग सेंटर से अवैध रूप से उत्खनित चलते डंप की जा रही 500 चक्कर डंप की गई रेत को माफिया खुलेआम माफिया ठिकाने लगा रहे है।अधिकारी की मिलीभगत उजागर है।

पिछोर एसडीएम जेपी गुप्ता ने पिछोर किशनपुरा फुटिबार तालाब के बांध के नीचे पुरानी नहर के पास फूटी बार नदी से डंपिंग सेंटर से अवैध रूप से उत्खनित चलते डंप की जा रही 500 चक्कर रेत को जप्त किया था। इस जब्त रेत को खनन माफिया सरेआम अपनी गाड़ियों में भरकर ले गया।

पिछोर थाने से महज 1 किलो मीटर दूरी पर ही दिन में माफिया के लोग ट्रॉला में रेत भर रहे थे। पुलिस रोकने तक नहीं गई। जब्त रेत भरने की सूचना जिले के आला अधिकारियों तक पहुंची तो सिर्फ कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति हुई। इससे समझा जा सकता है कि खनन माफिया किस तरह से जिले में हावी है।

पिछोर के वीरपुर किशनपुरा फुटिबार तालाब के बांध के नीचे पुरानी नहर के पास फूटी बार नदी से डंपिंग सेंटर से अवैध रूप से उत्खनित चलते डंप की जा रही 500 चक्कर रेत डंप कर रखी पिछोर थाना क्षेत्र में अवैध उत्खनन की बाढ़ सी आ गई है। पिछोर थाना क्षेत्र में पिछोर किशनपुरा फुटिबार तालाब के बांध के नीचे पुरानी नहर के पास फूटी बार नदी से डंपिंग सेंटर से अवैध रूप से उत्खनित चलते डंप की जा रही 500 चक्कर रेत डंप कर रखी जिसका परिवहन पुलिस राजस्व की मिलीभगत बेरोकटोक जारी है।

इस सारे गोरख-धंधे में राजस्व व पुलिस की मिलीभगत है बताया जा रहा है कि इस अवैध उगाही हेतु बकायदा सरकारी व गैर-सरकारी,तथकथित कटर लगाए गए है। जो अवैध रेत उत्खनन स्थलों पर जाकर इंट्री शुल्क वसूलते है। इस सुविधा शुल्क के बदले ट्रेक्टर वालों को अवैध रेत परिवहन की खुली छूट मिलती है।

वही अवैध खदान संचालकों से भी लाखों के वारे न्यारे कर अवैध रेत उत्खनन करने का आशीर्वाद दिया जा रहा है। इसी चक्कर मे उक्त थाने पर अदला-बदली का माहौल भी किसी से छुपा नही है। अब तो पुलिस की अवैध रेत उत्खनन में मिलीभगत होने का आरोप कैमरे के सामने भी ग्रामीण लगा रहे है।