पूरे संकल्प के साथ अगर प्रयास करें तो शिवपुरी भी भारत के 10 सबसे स्वच्छ शहरों में शामिल हो सकती है: यशोधरा राजे - Shivpuri News

शिवपुरी। वरिष्ठ भाजपा नेत्री और प्रदेश सरकार की मंत्री तथा शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया ने शिवपुरी के नागरिकों को एक पत्र लिखकर उनसे राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम स्थान पर आए इंदौर से प्रेरणा लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पिछले कई वर्षो से स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम स्थान पर इंदौर का आना हमारे लिए गर्व का विषय है और इससे भी बढ़कर एक प्रेरणा का स्त्रोत है।

क्या हम शिवपुरी के लोग भी यह प्रयास नहीं कर सकते कि यह गौरवशाली शहर भारत के 10 सबसे स्वच्छ शहरों में शामिल हो। लेकिन इसके लिए दृढ संकल्प तथा पूरे मन से प्रयास आवश्यक है। प्रथम 10 सबसे स्वच्छ शहरों में शिवपुरी कैसे आए इसके लिए यशोधरा राजे ने टिप्स भी दिए। उन्होंने कहा कि शिवपुरी और गंदगी में छिड़ी है जंग, ऐसे में आपको फैसला करना है कि आप हैं किसके संग।

शिवपुरी को स्वच्छ बनाने में अपने प्रयासों का जिक्र करते हुए यशोधरा राजे ने कहा कि कोरोना महामारी के समय से ही मैं शिवपुरी की स्वच्छता पर पूरा जोर देती आई हूं और यह भी सच है कि मुझे इसके लिए आप सबका समर्थन मिला। थीम रोड के निर्माण, सार्वजनिक संस्थानों को साफसुधरा एवं सुव्यवस्थित रखने की पहल, वृक्षारोपण जैसे अनेक प्रयासों के माध्यम से मैंने शिवपुरी को एक सुंदर स्वरूप देने के लिए बहुत सारे प्रयास किए हैं।

बाढ़ जैसी आपदा के समय मैंने नगर पालिका के सहयोग से नदी नालों की साफ-सफाई और गली-गली में गहन स्वच्छता कार्य पर भी ध्यान दिया। लेकिन अब हमें पूरे संकल्प के साथ और ज्यादा कर्मठ प्रयास टीम भावना के साथ करना चाहिए। ताकि शिवपुरी भारत के 10 सबसे स्वच्छ शहरों की सूची में शामिल हो सके और हमें गौरवांवित कर सके।

यशोधरा राजे ने पहले करते हुए कहा कि इसके लिए आप सबके सहायोग की महती जरूरत है। केवल नगर पालिका और सरकारी महकमें के प्रयासों पर निर्भर रहने से काम नहीं चलेगा। क्योंकि इनकी अपनी सीमा और अलग वाध्यताएं हैं। अग्रणी बनने के लिए भावना भी महत्वपूर्ण है। जिस देश के धर्म और संस्कृति में यह नाद गूंजता है कि जहां स्वच्छता होती है, वहां ईश्वर का वास होता है।

वहां हम साफ-सफाई से अपने धार्मिक-नैतिक कर्तव्य से कैसे मुंह मोड सकते हैं। उन्होंने पूर्ण विनम्रता के साथ शिवपुरीवासियों से अपील की है कि वे न केवल अपने घर बल्कि पड़ोस और शहर को साफ स्वच्छ रखने में पूरे मन से योगदान दें। उन्होंने जोड़ा कि बाहर की सफाई हमारे मन की स्वच्छता की भी निशानी है। जो भीतर से स्वच्छ हैं वे अपने परिवेश को भी गंदा नहीं रहने दे सकते। तो आईये जुुट जाएं इस स्वच्छता यज्ञ में और शिवपुरी का नाम भारत के अग्रणी शहरों में जोड़ दें।

इस तरह से बनेगा शिवपुरी देश का अग्रणी स्वच्छ शहर

यशोधरा राजे ने टिप्स देेते हुए कहा कि यह शहर हम सबका है और इसे स्वच्छ बनाए रखना हम सबकी सामूहिक और व्यक्तिगत जिम्मेदारी है। इसके लिए कचरा हम निर्धारित स्थानों पर ही फेंके। अपने आस पास गंदगी न पनपने दें। सप्ताह में एक दिन (रविवार या सामूहिक निर्णय से कोई भी एक दिन) अपने वार्ड/मोहल्ले में सामूदायिक स्वच्छता दिवस मनाएं। उस दिन सभी घरों के बड़े बूढे, स्त्री पुरूष अपने आस-पास की सडकों और गलियों की साफ-सफाई में बढ़चढ़कर हिस्सा लें। स्वच्छ के साथ-साथ शहर को सुंदर और प्रदूषण मुक्त भी बनाएं। पेड़ पौधे लगाकर शहर की हरियाली में वृद्धि करें।

स्वच्छता सर्वेक्षण में इंदौर की अव्वलता में शिवपुरी का भी योगदान

राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण में इंदौर को अव्वल बनाने में एक मायने में शिवपुरी का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इंदौर को सिरमोर बनाने में जो 5 महत्वपूर्ण किरदार है, उनमें शिवपुरी जिले के पिछोर के महेश शर्मा भी हैं, जो कई वर्षो से इंदौर नगर निगम में अधीक्षण यंत्री के पद पर पदस्थ हैं।

उन्होंने अधीक्षण यंत्री के रूप में इंदौर नगर निगम में कचरा कलेक्शन वाहनों की मॉनिटिरिंग की और कचरे की 6 तरफ से छटाई व निपटान का जिम्मा संभाला। श्री शर्मा नगर पालिका शिवपुरी में भी 25 वर्ष पूर्व सहायक यंत्री के रूप में पदस्थ रह चुके हैं और वह शिवपुरी नगर पालिका के सीएमओ रहे रामनिवास शर्मा के छोटे भाई हैं।