नेशनल पार्क सीमा में फोरलेन बनने की अड़चन समाप्त: 6.5 किमी का हुआ टेडंर, वन्य प्राणियो के लिए बनेगें छोटे-बड़े 17 पुल- Shivpuri News

शिवपुरी। ग्वालियर से शिवपुरी तक 125.3 किमी लंबी फोरलेन सड़क का प्रोजेक्ट 5 साल पूर्व ही लगभग पूरा हो गया था,लेकिन नेशनल पार्क की सीमा में लगभग 6.5 किमी का एक टूकडा बचा था यह फोरलेन में तब्दील नही हो पाया था। पार्क प्रबंधन ने इसमें अडंगा डाल दिया था। पार्क की सीमा से गुजरने वाली इस फोरलेन की वनविभाग की एनओसी नही थी इस कारण यह टूकडा बाकी बचा था।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारी इन दोनों मामलों का निराकरण करते हुए पूरे प्रोजेक्ट से नेशनल पार्क सीमा का 6.50 किमी का हिस्सा अलग करके नया प्रोजेक्ट बनाया गया है। इसमें 17 छोटे-बड़े पुल बनाए जाना प्रस्तावित है। इनमें नौ बड़े और आठ छोटे पुल शामिल हैं। पार्क सीमा होने की वजह से वन्य प्राणी इन्हीं पुल के नीचे से होकर आ-जा सकेंगे।

अब बताया जा रहा है कि सतनबाडा से शिवपुरी शहर के बीच माधव नेशनल पार्क सीमा में छूटे 6.5 किमी टूकडे में फोरलेन सडक बनाने का काम शुरू करने के अडंगें समाप्त हो चुके हैं उक्त हिस्से में फोरलेन सडक निर्माण निर्माण की म्याद 2023 निर्धारित की गई हैं। केन्द्री परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने उक्त निर्माण कार्य का गुरूवार को आनलाईन शुंभारभ कर दिया है। इसी के साथ काम मेे तेजी आने के आसार हैं।

जानकारी के अनुसार माधव नेशनल पार्क से होकर गुजरने वाल राष्ट्रीय राजमार्ग क्रंमाक-46 ग्वालियर शिवपुरी खंड 100.757 से 107.350 तक का चौडीकरण कार्य पहले फोरलेन सडक चौडीकरण कार्य पहले फोरलेन सडक चौडीकरण के दौरान वन्य जीव अभ्यारण की अनुमति नही मिलने से छुट गया था।

लेकिन अब एनएच 46 का यह 6.593 किमी का बचा शेष टूकडा अनुमति मिलने से बनने जा रहा हैं। उक्त सडक निर्माण कार्य के शुभारंभ कार्यक्रम में जनप्रतिनिधि व अधिकारी गुरूवार को एनआईसी शिवपुरी के जरिए जुडे।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्धवारा वन्य जीव अभयारण्य की अनुमति की शर्त के अनुसार 178 करोड की लागत की डीपीआर बनाई गई। जिसमें 162.15 करोड़ की निविदा आमंत्रित की। उक्त निर्माण कार्य केआरसी इन्फ्रा प्रोजेक्टस पलवल हरियाणा ने सबसे कम दर 125 करोड़ रूपए में लिया हैं।

इस निर्माण में 9 अंडरपास 8 कल्वर्ट से वन्य प्राणियो के अवागमन रहेगा। वाइल्ड लाइफ क्लियरेंंस के अनुसार फोरलेन सडक निर्माण में 75 मीटर स्पान के 9 अंडरपास और 8 कल्वर्ट वन्य जीवो के आगमन के लिए बनाए जाऐंगें। जबकि 3.86 किमी की सर्विस रोड और 5.912 किमी की रिफोस्ड अर्थ आरईवाल का निर्माण शामिल हैं। वन्य जीवो को ट्रेफिक शोरगुल से बचाने के लिए बांस की फैसिंग भी लगाई जाएगी जो साउंड बैरियर का काम करेगी। यानी वन्य प्राणी वाहनो के शोर शराबे से काफी हद तक बचे रहेंगेंं।