सिंध पर तंज: नहाने का पानी देख साबुन ने कहा, मुझे दोष ना देना, आ रहे मजेदार कमेंटस - Shivpuri News

शिवपुरी। तीसरे दिन भी शहर के नलो ने पानी नही कीचड उगली,आम जन जहां नगर पालिका शिवपुरी को दोष दे रहे हैं। नाराज लोग सिंध पर तंज करते हुए अपबीती लिख रहे तो कुछ मजाकिया लहजे में सिंध पर वार कर रहे हैं।

सोशल साइट पर महेंद्र खटीक ने टिप्पणी करते हुए लिखा है कि आज नहाने के पानी को देखकर साबुन ने कहा भाई देख लो, बाद में मुझे दोष ना देना कि काम सही नहीं किया? सिंध का गंदा पानी नल में आने पर कुछ इस तरह कटाक्ष करके मन की भड़ास निकाल रहे हैं।

वही इस कटाक्ष के नीचे कंमेट आ रहे हैं। इस पोस्ट पर नरेन्द्र सिंह गौर ने लिखा कि अब आप को कैसे पता चला की गलती साबुन की हैं यह तो पक्ष विपक्ष जैसा मामला हो गया,वही प्रमोद श्रीवास्तव ने लिखा कि भदैया कुण्ड या नदी तालाब समझ कर नहा लो घर के अंदर बाहर जैसा आंनद।

वही राशिद खान ने लिखा महेन्द्र खटीक को लिखा कि तभी श्रीमान कुछ भूरे-भूरे से नजर आ रहे हैं,इस पर महेन्द्र ने फिर प्रतिक्रिया दी की भाई साबुन ने मना कर दिया कि मुझे क्यूं गंदा कर रहे हो।

दरअसल बाढ़ का गंदा पानी सिंध में आ गया है और यही पानी फिल्टर प्लांट के जरिए शिवपुरी शहर की टंकियों में भर दिया है। अब टंकियों से छोड़ी जा रही सप्लाई में यही गंदा पानी घरों तक पहुंच रहा है। कमलागंज, फतेहपुर, फिजिकल सहित अन्य इलाकों में रविवार, सोमवार के बाद मंगलवार को भी गंदा पानी नलों से आया। नलों में मटमैला पानी देखकर लोग इसे स्टोर तक नहीं कर रहे हैं।

क्योंकि टंकियां और बर्तन भी गंदे हो जाएंगे। पानी पीना लायक तो दूर कपड़े धाेने और बर्तन मांझने लायक भी नहीं है। पानी को देखकर लोगों की नहाने की इच्छा तक नहीं हो रही। हालांकि नपा ने सतनवाड़़ा प्लांट पर पानी साफ करने के लिए एलम की मात्रा ढाई गुना तक बढ़ा दी है।