अफगानिस्तान में फंसे 150 भारतीयों को वापस लाने वाले कमांडेंट रविकांत गौतम के घर जाकर स्वदेशी जागरण मंच नें किया परिजनों का सम्मान

शिवपुरी। अफगानिस्तान में फंसे हुए भारतीयों को एयरलिफ्ट कर निकालने के ऑपरेशन की जिम्मेदारी भारत सरकार ने आइटीबीपी (ITBP) के कमांडो को दी थी। गौरतलब हो कि इस आइटीबीपी की कमांडो टीम को मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के रविकांत गौतम ने लीड किया था। कमांडेंट रविकांत गौतम ने काबुल से भारतीय नागरिकों के साथ राजनयिकों और अन्य भारतीयों को सुरक्षित निकालने में सफलता हासिल की।

उनके सकुशल लौट ने का समाचार पाते ही स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं नें उनके घर पर जाकर उनके परिजनों को उन्हें बधाई दी, गर्व भी जताया और उनके परिजनों का सम्मान भी किया ।

रविकांत अपनी कमांडों टीम के साथ 150 से अधिक भारतीयों को सकुशल लेकर हिंडन एयरपोर्ट पर लौटे हैं। कमांडेंट रविकांत के परिजनों नें बताया कि भारत सरकार ने रविकांत को जो जिम्मेदारी दी थी उसे उन्होंने पूरा किया है। वहां हालात भयानक थे।

रविकांत दो रात से बिल्कुल नहीं सोए और न ही कुछ खाया। रविकांत नें उन्हें बताया कि आपरेशन की जानकारी तो साझा नहीं कर सकता हूँ, लेकिन इतना कहूंगा कि सरकार ने इसमें बहुत अच्छे से समन्वय बनाया। रविकांत को वहां फंसे हुए लोगों के साथ अपनी पूरी टीम को भी सुरक्षित लौटाकर लाना था जिसमें रविकांत सफल रहे।

आइटीबीपी के कमांडिग ऑफिसर रविकांत गौतम बीते करीब एक साल से वहां तैनात थे। उन्होंने बताया कि काबुल की स्थिति दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है। काबुल में मजार ए शरीफ के पास तालिबानी और अफगानी सेना के बीच अचानक लड़ाई छिड़ गई। दोनों ओर से गोलीबारी होने लगी और बम फेंके जाने लगे।

इस दौरान कई भारतीय मजार ए शरीफ और उसके पास के इलाके में फंस गए थे। आइटीबीपी की टीम ने सभी को वहां से सुरक्षित बचा लिया। रविकांत के बड़े भाई एडवोकेट अजय गौतम ने बताया कि भारत सरकार हमेशा अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों के साथ खड़ी रही और अधिकारी लगातार रविकांत से बातचीत कर रहे थे।

ऐसे में जब फर्ज रविकांत के आंखों के सामने था तो उन्हें कभी भी डर नहीं लगा। उन्होंने बताया कि काबुल से विमान के उड़ने में भी भीड़ अड़चन बन रही थी। हालांकि किसी प्रकार वायुसेना ने विमान को सुरक्षित उतारा और लोगों को लेकर वापस आए हैं। रविकांत के पिता श्री रामस्वरूप गौतम व उनके परिवार को भी गर्व की अनुभूति हो रही है।

स्वदेशी जागरण मंच के प्रांतीय संगठक केशव दुबोलिया नें विडिओ कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दी रविकांत के परिजनों को बधाई दी।

आइटीबीपी कमांडेंट रविकांत गौतम के द्वारा एयरलिफ्ट कर अफगानिस्तान में फंसे 150 भारतीयों को वापस लाने पर स्वदेशी जागरण मंच के प्रांतीय एवं जिले के पदाधिकारियों नें उनके घर जाकर उनके परिजनों को बधाई देते हुए रविकांत के माता पिता का सम्मान किया।

इस दौरान स्वदेशी जागरण मंच के प्रांतीय संगठक केशव दुबोलिया नें विडिओ कॉन्फ्रेंस के माध्यम से रविकांत के परिजनों को बधाई देते हुए कहा कि आइटीबीपी कमांडेंट रविकांत गौतम नें आज न केवल शिवपुरी, मध्यप्रदेश बल्कि समूचे देश का मस्तक गर्व से ऊंचा किया है। उन्होंने आज जो कारनामा किया है निश्चित ही उसके पीछे उनके पूरे परिवार का त्याग और समर्पण है ।

आइटीबीपी कमांडेंट रविकांत गौतम के घर जाकर उनके परिजनों का सम्मान करने वाले स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं में प्रांतीय संघर्ष वाहिनी प्रमुख सुरेश दुबे, प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य दिवाकर शर्मा, विभाग संयोजक राकेश शर्मा, जिला सह संयोजक प्रमोद मिश्रा, जिला युवा आयाम प्रमुख रानू रघुवंशी, नगर संयोजक गजेन्द्र शिवहरे एवं जॉइन स्वदेशी जिला सह संपर्क प्रमुख कृष्णकांत भार्गव उपस्थित रहे।