बडी खबर: ऐसे तो डूब जाऐगा यह बैंक, सहकारी बैंक में 100 करोड़ रूपए का महाघोटाला उजागर - Shivpuri News

ललित मुदगल, शिवपुरी समाचार डॉट कॉम। जिले के सहकारी बैंक में फिर सुर्खियो में आ गया हैं,बैंक में 100 करोड रूपए कागजो में नही मिल रहे हैं कहां गए इसकी जांच की नौंटकी शुरू हो चुकी है और इस फैले रायते को समेटने के लिए प्रबंधक जुट गई हैं इस मामले से अपने आप को पाक साफ सिद्ध करने के लिए मेडम स्वयं ही शिकायतकर्ता बनी है। यह घोटाला 1 सितंबर 20 से आज दिनांक के बीच हुआ हैं।

जानकारी के अनुसार जिला सहकारी बैंक मर्यादित,शिवपुरी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी लता कृष्णनं ने सहकारी आयुक्त भोपाल को 31 जुलाई को एक पत्र लिखा। इस पत्र का विषय था कि शिवपुरी के जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक में सीबीएस सिस्टम में ऋण वितरण के आंकडो में 100 करोड रूपए के लगभग का अंतर पाया गया है।

बताया जा जा रहा हैं कि बैंक स्तर लेखा कक्ष के द्धवारा मांग राशि 184 करोड हैं जबकि सीबीएस कोर कम्प्यूटर के आधार पर यह राशि 287 करोड दिख रही हैं। ऐसे में लगभग बैलेंस सीट में 100 करोड का अंतर पाया गया हैं। वही बताया जा रहा है कि हस्तलिखित बैलेंस में आंकडे सही पाए जा रहे हैं,लेकिन बैंक के कोर कम्प्यूटर सिस्टम में लगभग 100 करोड रूपए का अंतर बैलेंस सीट में दिख रहा है। यह 100 करेाड रूपए वर्तमान वित्तवर्ष की बैंकिक में गायब हो रहे है।

बैंक की कार्यपालन अधिकारी लता कृष्णनं द्धारा भेजे गए आयुक्त को इस पत्र पर सहकारता आयुक्त भोपाल ने डॉ.अनिल वर्मा संयुक्त आयुक्त,सहकारिता भोपाल को जांच टीम का प्रमुख बनाया हैं और इस टीम में डॉ.शिवेन्द्र देव पाण्डेय उपआयुक्त सहकारिता भोपाल,राजकुमार पाटिल अंकेक्षण अधिकारी भोपाल,अविनाश सिंह वरिष्ठ सहकारी निरिक्षक भोपाल,संजीव गुप्ता वरिष्ठ सहकारी निरिक्षक भोपाल,संतीश गुप्ता वरिष्ठ सहकारी निरिक्षक ग्वालियर,राजीव रूपोलिया सहकारी निरिक्षक ग्वालियर,ए.के.एस.चंदेल सहायक महाप्रबंधक अपेक्स बैंक मुख्यालय भोपाल,राजकुमार गंगेले संवर्ग अधिकारी,अपेक्स बैंक,ए.के.श्रीवास्तव अपेक्स बैंक ग्वालियर शाखा,सुशील कुमार शुक्ला,अपेक्स बैंक,सागर शाखा,नवल सूर्यवंशी जिला बैंक बैतूल और श्री प्रवीण रघुवंशी जिला बैंक गुना को रखा गया है।

सहकारिता आयुक्त भोपाल के आदेश से बनी यह जांच टीम अब इस महाघोटाले की जांच करे्ंगी। शुरूवाती दौर में इस महाघोटाले में यह स्प्ष्ट दिख रहा है कि उकत घोटाला इसी वित्तीय वर्ष का है और बैंक प्रमुख लता कृष्णनं हैं कागजो में इस घोटाले में उन्होने ही पकडा हैं,और शिकायतकर्ता बनी हैं। लेकिन सूत्रो का कहना है कि इस महाघोटाले को सहकारिता से जुडे अन्य लोगो ने पकडा हैं और शिकायते शुरू हुई तो मेडम ने आनन फानन में अपने आप को इस महाघोटाले से बचने के लिए सहकारिता आयुक्त को पत्र लिख दिया हैं। अब इस महाघोटाले में नित नए खुलासे होने की उम्मीद है।