जब सब कुछ खुल गया तो स्कूल क्यों बंद, स्कूल संचालकों ने प्रभारी मंत्री को सौंपा ज्ञापन - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो साल से स्कूल की तालाबंदी का सामना कर रहे और आर्थिक हालात से जूझ रहे स्कूल संचालकों ने प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया को शिवपुरी आगमन के अवसर पर ज्ञापन सौंपकर उनसे 15 जुलाई से निजी स्कूल खुलवाने की मांग की।

स्कूल संचालकों ने डीईओ दीपक पांडेय को अपने-अपने स्कूलों की चाबी सौंपते हुए कहा कि अब वहां की व्यवस्था भी आप संभालें। स्कूल संचालकों का दर्द इसलिए भी बढ़ रहा है क्योंकि न केवल स्कूल बंद है और उनकी आय का जरिया खत्म हो गया है। वहीं शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल संचालकों पर निरीक्षण के नाम पर दबाव बनाया जा रहा है। जिससे वह मानसिक रूप से परेशान हैं।

प्रभारी मंत्री सिसौदिया को स्कूल संचालकों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में कहा गया है कि जिस प्रकार वर्ष 2020-21 और 21-22 की मान्यता का नवीनीकरण विभाग द्वारा कर दिया है। उसी प्रकार कक्षा 1 से 2 तक वर्ष 2022-23 से 24-25 तक की मान्यता का नवीनीकरण भी बिना किसी निरीक्षण के किया जाए। मान्यता और संबद्धता का शुल्क माफ किया जाए।

28 जून को राज्य सरकार द्वारा जो स्कूल न खोलने का निर्णय लिया गया है वह न तो बालकों के हित में है और नही पालकों के हित में हैं। स्कूल संचालक और टीचर भी इससे परेशान हैं। इसलिए निर्णय में बदलाव कर 15 जुलाई से स्कूल खोले जाएं।

स्कूल संचालकों का तर्क है कि जब सबकुछ खुल गया है तो फिर स्कूल क्यों बंद हैं। बच्चों को भी मोबाइल की पढ़ाई समझ में नहीं आ रही है और अभिभावक भी स्कूल खोलने का दबाव बना रहे हेैं। फिर सरकार क्यों हमारे विरूद्ध जा रही है।