बिजली के दरो पर आप पार्टी का विरोध: मप्र से दिल्ली बिजली खरीदकर देती हैं 200 यूनिट तक फ्री - Shivpuri News

शिवपुरी। आम आदमी पार्टी के द्वारा आगामी समय में प्रस्तावित बिजली दर वृद्धि में रोक एवं बढ़े हुए बिजली बिल वापिसी की मांग को लेकर एक ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर मनोज गरवाल को सौंपा और शीघ्र इस ओर उचित कदम उठाए जाने की मांग भी आप पार्टी के द्वारा की गई।

आप पार्टी के नेता पीयूष शर्मा ने बताया कि आने वाले समय में मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज मध्य प्रदेश में पहले से ही उपभोक्ताओं को महंगी बिजली की मार ने सताया है। वहीं सरकार बिजली कंपनी के साथ सांठगांठ करके पहले से ही लोगों को लूट रही है। अब जबकि लगभग 15 महीने से लोग दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

ऐसे वक्त में बिजली के दामों में 70 प्रतिशत की बेतहाशा वृद्धि अमानवीय है जो कि न्यायोचित नहीं है इसलिए आप पार्टी इस तरह की प्रस्तावित बिजली दर वृद्धि एवं बढ़े हुए बिजली बिलों को वापिस लेने की मांग करती है ताकि आमजनता के साथ न्याय हो सके और जनता पर अनावश्यक बोझ ना डाला जाए।

इस दौरान ज्ञापन सौंपने वालों में वीरेन्द्र सिंह रावत, रज्जन खान व योगेश खटीक शामिल रहे। यहां आप पार्टी ने प्रदेश सरकार ने कहा कि यदि बिजली के दाम बढ़ते है तो आम आदमी पार्टी कोरोना काल मे सड़क पर उतर कर जनहित में भारी विरोध प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होगी।

इस तरह बताया कि कैसे बढ़ रही बिजली दर वृद्धि

आप पार्टी ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार बिजली 200 यूनिट तक हर व्यक्ति के लिए मुफ्त दे रही है तथा 400 यूनिट तक आधे दाम हैं, जबकि आप यह भी जानते हैं की बिजली का उत्पादन दिल्ली में नहीं होता बल्कि वहां पर जो बिजली लोगों को प्राप्त कराई जाती है वह मध्य प्रदेश से खरीद कर दी जाती है।

फिर भी वहां पर लोगों को बिजली कम दाम में उपलब्ध कराई जा रही है। जबकि मध्यप्रदेश में बिजली का उत्पादन भी होता है इसके बावजूद भी मध्य प्रदेश के अंदर 200 यूनिट बिजली के लगभग 1500 रुपये और 400 यूनिट के लगभग 3200 रुपये वसूले जाते हैं।

लगभग 15 माह से लोगों की दुकानों से व्यापार से आमदनी ना के बराबर हुई है बल्कि लोगों को नुकसान हुआ है ऐसे में भी बंद दुकानों से बंद व्यापार से बिजली की मोटी रकम वसूली गई व्यवसायिक दर परए यह सरासर लूट है।