कोरोना काल में अस्थि विसर्जन बना मुसीबत, किराए की गाड़ी का मनमाना किराया वसूल रहे है - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना के चलते लॉकडाउन है और बसों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है ऐसे में इलाहाबाद जाने वाली बस भी शिवपुरी से बंद हैं नतीजे में अस्थि विसर्जन करने वाले लोगों को सामने एक बडी परेशानी खडी हो गई है।

उन्हें किराए की कार या अपने निजी वाहन से इलाहाबाद तक जाना पड रहा है जबकि सबसे बडी मुसीबत उन गरीबों की है जिनके पास पैसा नहीं हैं ऐसे में वे लोग अपने परिजनों की अस्थियों को विसर्जन करने के लिए कर्ज ले रहे हैं और उसके बाद अस्थि विसर्जन को जा रहे हैं।

10 हजार का कर्ज लेकर श्यामू गया विसर्जन को

गरीब श्यामू सेठ की दुकान पर काम कर किसी तरह से 7 हजार रूपए महीना कमाता है लेकिन लॉकडाउन और कोरोना ने उसकी कमर तोड दी है। उसके पिता का देहांत हो गया तो परिवार की जबावदारी उसके कंधों पर आ गई। पिता की अस्थियां विसर्जन के लिए उसने 10 हजार रूपए कर्ज लेकर किराए से वाहन कर पिता की अस्थियां विसर्जित कीं।

नहीं जा रही बस और ट्रेन

इलाहाबाद के लिए बस शिवपुरी से जाती थी और इस बस से लोगों को काफी सहूलियत थी लेकिन कोरोना के चलते बसों का आवागमन बंद है ऐसे में उन गरीबों को परेशानी हो रही है जो किराए का वाहन वहन नहीं कर सकते हैं। इतना ही नहीं ट्रेन का आवागमन भी अभी बंद है।