कैमरे में कैद होती खाकी:पहले भी हो चुके है ट्रेप - Shivpuri News

शिवपुरी। देश भक्ति जनसेवा का नारा देने वाली पुलिस का दामन पाक साफ नहीं है। पुलिस के कई कर्मचारी रिश्वत लेते कैमरे में कैद हुए है। ऐसा ही मामला बीते रोज एक फरियादी को ही पुलिस ने फसाने के लिए पहले तो उसे थाने में बैठाया और उसके बाद उसे छोडने के ऐवज में 27 हजार की रिश्वत की मांग कर डाली और यह पूरा मामला मोबाइल के कैमरे में कैद हो गया। यह पहला मामला नहीं है कि खाकी के दामन पर दाग लगा हो इसके पहले भी कई बार खाकी रिश्वत लेते कैमरे में कैद हुई है।

एसपी आफिस का बाबू भी हुआ था कैमरे में कैद

एसपी आफिस के कार्यालय का एक बाबू कुछ साल पहले कैमरे में रिश्वत लेते कैद हो गया था। वह बंदूक लायसेंस का फार्म निकालने के ऐवज में रिश्वत मांग रहा था और किसी ने उसे 2 हजार की रिश्वत देते कैमरे में कैद किया था।

कल भी चालान के नाम चौराहे पर मांग रहा था एएसआई

बर्दी को दागदार करने में पुलिसकर्मीयों के साथ साथ ट्राफिक पुलिस भी बर्दी को दागदार कर रही है। कल एक युवक से यातायात थाने में पदस्थ एएसआई 500 रूपए की मांग चालान के नाम पर कर रहा था। उस दौरान उक्त युवक ने वीडियों कैमरा चालू कर बिना चालान के 200 रूपए में मामला सेट करने की बात कही। उसके बाद यह मामला 200 रूपए में सेट हुआ और एएआई ने 200 रूपए लेने के बाद गाडी छोड दी। यह मामला युवक ने शोसल मीडिया पर भी बायरल किया।

दहेज प्रताडना के मामले में सिपाही ने लिए थे 80 हजार

कुछ साल पहले एसडीओपी कार्यालय में पदस्थ एक सिपाही ने दहेज प्रताडना के मामले में 80 हजार रूपए की रिश्वत ली जिसके बाद यह बात आला अधिकारियों को पता लगी तो उनके द्वारा सिपाही को बर्खास्त कर दिया गया।

ट्रेक्टर व्यवसायी से मांगे थे 1 लाख

कोलारस थाने में पदस्थ एक टीआई के द्वारा ट्रेक्टर व्यवसायी से 1 लाख रूपए की रिश्वत की मांग की इसका वीडियों भी बन गया था जिसके बाद यह टीआई हटाए गए और उसके बाद भौंती में शराब पीकर इनके द्वारा व्यापारी से अभद्रता की गई थी।