कोरोना को काबू करने के लिए बढ़ रहा है कर्फ्यू, लेकिन परिवारों में रोटी रोटी का संकट खड़ा हुआ - Shivpuri News

शिवपुरी। लॉकडाउन से जहां बाजार पूरी तरह से बंद है तो कई दुकानों से लेकर होटल से लेकर हलवाई और अन्य छोटी दुकानें पूरी तरह से बंद हैं जिसके चलते इन पर काम करने वाले लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट खडा हो गया है। लोगों का कहना है कि लॉकडाउन के चलते उनका रोजगार पूरी तरह से लॉक हो गया है।

प्रकाश कमाता था 500

कपडे की दुकान का संचालन कर प्रकाश 500 रूपए रोज कमाता था जिससे उसके परिवार की रोजी रोटी चलती थी। ऐसे में दुकानें बंद हैं तो रोजगार का संकट खडा हो गया है। जमा पूंजी खा रहे हैं। प्रकाश का कहना है कि पहले ही लॉकडाउन के चलते कारोबार मंदा था ऐसे में कई दिनों से कारोबार लॉक होने के चलते अब घर चलाने में परेशानी का सामना करना पडता था।

होटल की जगह ढाबे पर कर रहे बेटर का काम

शहर के कई होटलों में बेटर का काम करने वाले बेटर भी इन दिनों बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं। बेटर रामसिंह ने बताया कि वह शहर के एक होटल पर बेटरी का काम कर हर रोज 400 रूपए कमाता था लेकिन अब होटल बंद है ऐसे में एक ढाबे पर जाकर 200 रूपए रोज में बेटर का काम कर रहा है।

सेठ नहीं देगा वेतन

10 हजार रूपए में एक हाईवेयर की दुकान पर काम करने वाले सुरेश का कहना है कि लॉकडाउन लग गया है ऐसे में वह बेरोजगारी का दंश झेलने को मजबूर है। काम के बदले सेठ 10 हजार रूपए देता था लेकिन लॉकडाउन के चलते वह उसे वेतन नहीं देगा जिससे उसके सामने घर को चलाने का संकट खडा हो गया है।