कोरोना ने लगाया 300 साल पुरानी लट्ठमार होली पर ग्रहण, अहीर मोहल्ले में होती थी होली - Shivpuri News

शिवपुरी। ब्रज की लटठमार होली की बात ही निराली है और यहीं कारण है कि लोग ब्रज की इस होली को खेलने के लिए ब्रज का सफर तय करते हैं लेकिन शिवपुरी के अहीर मोहल्ले में कई सालों से चली आ रही लटठमार होली पर भी कोरोना ने अपना ग्रहण लगा दिया है और कोरोना के चलते इस बार इस आयोजन को रदद करना पडा।

300 साल से चली आ रही थी परंपरा

300 वर्ष पुरानी यादव समाज की अहीर मोहल्ला में आयोजित होने वाले झण्डा(बरसाना की तर्ज पर लठ्ठमार होली) कार्यक्रम को भी स्थगित करना पड़ा। यादव महासभा के युवा प्रदेश उपाध्यक्ष उपेन्द्र यादव ने बताया कि यादव समाज ने हमेशा कैसी भी परिस्थिति हो उन हालातों में भी शासन-प्रशासन का सहयोग किया वर्तमान परिवेश में कोरोना का प्रभाव है और जिला प्रशासन द्वारा धारा 144 लागू होने के साथ किसी भी तरह के सामाजिक कार्यक्रम आयेाजित ना करने के निर्देश दिए गए हैं।

जिसे लेकर इस बार यादव समाज ने भी एक बार फिर से शासन को सहयोग प्रदान करते हुए अपनी 300 वर्ष पुरानी परंपरा झण्डा जिसे यादव समाज बड़े हर्ष के साथ मनाता है जिसे संक्षेप में लठ्ठमार होली भी कहा जाता है और यह प्रसिद्ध बरसाना के रूप में मनाई जाती है लेकिन इस बार कोरेाना के प्रभाव के कारण होली पर मनाए जाने वाले इस पावन पारंपरिक परंपरा को भी स्थगित कर दिया गया है।

दूर दराज से लोग आते थे शामिल होने

दूर-दराज के ग्रामीणजन इस झण्डा कार्यक्रम में शामिल होकर इस परंपरा का निर्वाह करते है लेकिन इस बार कोरोना काल ने इस पारंपारिक परंपरा पर अपना प्रभाव डाल दिया और कार्यक्रम को स्थगित करना पड़ा।