नहर न खुलने से गुस्साए किसानों ने हाईवे पर किया चक्काजाम,पुलिस ने समझाया तब खोला - khaniyadhana News

खनियांधाना। जिले के खनियांधाना के बुधना डैम की नहर ना खुलने से किसानों में आक्रोश होने के कारण आज सुवह किसानों ने हाईवे पर चक्का जाम कर दिया। किसानों ने देवखो चौराहे पर उस समय चक्का जाम कर जमकर नारेवाजी की। इस मामले की सूचना पर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और गुस्साए किसानों को समझाने का प्रयास किया। तब कही जाकर चक्काजाम खुला।

जानकारी के अनुसार किसानों के लिए बुधना डैम की नहर से पानी ना मिलने के कारण किसानों की फसल सूखने के कगार पर आ गई है। अब किसान का कहना है कि अगर हमारी फसल सूखती है चौपट होती है तो क्या करेंगे किसानों की मांग है कि हम चक्का जाम तभी खोलेंगे जब तक नहर में पानी नहीं छोड़ा जाता।

खनियाधाना क्षेत्र के किसानों को सिंचाई हेतु उपलब्ध एकमात्र नहर बुधना नहर है, जिसके पानी से अपने खेतों की सिंचाई कर किसान साल भर के लिए अपनी फसल तैयार करता है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों की वजह से इस वर्ष किसानों को सिंचाई हेतु पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जिसकी वजह से खेतों में खड़ी हरी-भरी फसल सूखने के कगार पर है और किसानों द्वारा लगाई गई लागत भी न मिल पाने की स्थिति बन रही है।

बुधना डैम की नहर ना खुलने से किसानों में आक्रोश होने के कारण आज सुवह किसानों ने हाईवे पर चक्का जाम कर दिया किसानों ने देवखो चौराहे पर उस समय चक्का जाम लगा दिया जब किसानों के लिए बुधना डैम की नहर से पानी ना मिलने के कारण किसानों की फसल सूखने के कगार पर आज गई है।

पानी नहीं मिलने से किसान परेशान

किसानों का कहना है कि सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलने के चलते हमारी फसल सूखने के कगार पर है। वहीं बुधना नहर के एसडीओ विकास तिवारी का कहना है कि डैम में पानी न होने के कारण नहर में सिंचाई हेतु पानी नहीं छोड़ा जा सकता है. जो पानी डैम में उपलब्ध है, वह खनियाधाना की जलापूर्ति के लिए बचा कर रखा गया है।

जब किसानों ने उनसे मिलने की इच्छा जाहिर की तब उन्होंने खुद को शिवपुरी मुख्यालय पर होना बताया और फोन काट दिया. जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही की वजह से यदि किसानों की फसल खराब होती है, तो ऐसी स्थिति में किसान कैसे अपने परिवार का भरण पोषण कर पाएगा।

इसका जवाब देने के लिए कोई भी आला अधिकारी उपलब्ध नहीं था। किसानों ने कहा कि यदि जल्दी ही उनकी सुनवाई नहीं होती है, तब वह चक्का जाम करेंगे और आंदोलन के लिए मजबूर होंगे। अब पुलिस ने इस मामले में किसानों को समझाया तब कही जाकर किसानों ने चक्काजाम निकाला। अब पुलिस इस मामले में किसानों पर एफआईआर करने की तैयारी में है।