रिश्वत के कारण टूट गया 2 दर्जन ग्रामीणो के आशियाने का सपना:जनसुवाई

पिछोर। खनियाधाना की ग्राम पंचायत पिपरा में सचिव की लापरवाही से दो दर्जन से अधिक लोगों को उनके सपने का आशियाना पीएम आवास मंजूर नहीं हो सका है। अब यह लोग टुटी फूटी झौंपडी में ही अपना जीवन गुजारने को मजबूर है। जनसुनवाई में सुनवाई की आस में ग्रामीण शिवपुरी आए और सचिव की लापरवाही दास्ता अधिकारियों से वयां की।

जानकारी के अनुसार पिपरा ग्राम पंचायत की शीला, रामवती , फूला ने बताया कि उन्होंने पीएम आवास के लिए पंचायत में आवेदन जमा किए थे लेकिन सचिव की लापरवाही के चलते उन्हें अब तक पीएम आवास स्वीक्रत नहीं हो सका है और सचिव ने बाला बाला ग्राम सभा कर दबंग लोगों को पीएम आवास स्वीक्रत करा दिए जबकि वह लोग आज भी टूटी फुटी झौंपडी में जीवन यापन करने को मजबूर हैं।

मांग रहा था 10 हजार रूपए
पीएम आवास स्वीक्रत कराने के नाम पर सचिव ने उनसे 10—10 हजार रूपए की मांग की थी लेकिन भुखमरी और गरीबी के चलते यह लोग सचिव की जेब गर्म नहीं कर पाए तो सचिव ने उनके सपनों के आशियाना की ख्बाव ही उनसे छीन लिया।