ऑफिस पॉलिटिक्स के कारण हुई है संजय भार्गव की मौत, हंगामे की भनक और उपायुक्त लौटे - Pichhore News

पिछोर। पिछोर स्थित जिला सहकारी केंद्रीय मर्यादित बैंक के उपायुक्त नरेश सिन्हा के आने की खबर मिलते ही सहायक समिति प्रबंधक मृत संजय भार्गव के परिवार के लोग बैंक पहुंच गए। परिवार के लोगों ने कहा कि संजय की मौत गबन के झूठे मामले में फंसाने से हुए तनाव से हुई है। उधर डीआर को हंगामे की भनक लगी तो वह पिछोर से शिवपुरी लौट गए।

26 जनवरी को पिछोर संस्था के सहायक समिति प्रबंधक के पद पर कार्यरत संजय भार्गव की हृदयघात से मौत हो गई थी। कुछ दिन बाद परिजनों को कुछ कागज मिले और परिजनों को लगा कि संजय की मौत की वजह कार्यालय में चल रहा तनाव था।

इस घटना से नाराज मृत कर्मचारी की पत्नी मंजेश भार्गव, मां सोमवती, भाई स्वतंत्र, ससुर रामसेवक दुबे, साला संजीव दुबे आदि डीआर से शिकायत दर्ज कराने बैंक में आ पहुंच गए। परिजनों का आरोप था कि वेद प्रकाश गुप्ता ने प्रशासक राकेश चौैहान से मिलकर संजय पर गबन का आरोप मढ़कर उसे सेवा से पृथक करने की तैयारी कर ली थी। जिस कारण संजय तनाव में थे और उनकी मौत हो गई थी। इधर वेदप्रकाश ने आरोपों को पूरी तरह नकार दिया।