6 वें दिन जारी है सहकारिता कर्मचारी संघ का धरना प्रदर्शन - Shivpuri News

शिवपुरी। मध्यप्रदेश सहाकारिता कर्मचारी संघ के द्वारा अपनी लंबित मांगों को लेकर जब कोई सुनवाई नहीं हुई तब सहकारिता कर्मचारी महासंघ के बैनर तले मंगलवार के दिन कलेक्ट्रेट के समीप टैंट तंबू गाढ़कर मप्र सहकारिता कर्मचारी महासंघ द्वारा अपनी लंबित मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन जारी है।

इस दौरान यहां यहां मप्र सहकारिता कर्मचारी महासंघ के जिलाध्यक्ष महेन्द्र कुशवाह, कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद तिवारी, महासचिव राजकुमार शर्मा, कोषाध्यक्ष रविशंकर धाकड़ आदि शामिल रहे जिनके नेतृत्व में सहकारी सोसायटीयों के तमाम सदस्यों ने मिलकर बुधवार को जिले भर में प्रदर्शन किया और अपनी मांगों को लेकर शासन स्तर पर ज्ञापन भी सौंपा।

इस दौरान हड़ताल को समर्थन देते हुए कर्मचारियों ने अपना समर्थन दिया और समस्त शासकीय उचित मूल्य की दुकानें एवं सहकारी संस्थाऐं पूरे दिन पूर्ण रूप से बंद रहीं। इस कलम बंद आन्दोलन से आम नागरिकों एवं शासन-प्रशासन को कार्य में बाधा व परेशानी होगी इसके लिए संस्था के द्वारा खेद जताया गया है।

इस विरोध प्रदर्शन में मप्र सहकारिता समिति कर्मचारी महासंघ जिला शिवपुरी के रविशंकर धाकड़, शिवदयाल धाकड़, राजू तिवारी, रामेश्वर माथुर, मस्तराम शर्मा, मुकेश श्रीवास्तव, बलराम शर्मा, गजेन्द्र वर्मा, बृजेश धाकड़, छोटेलाल रजक, ओमप्रकाश श्रीवास्तव, प्रतिपाल सिंह, महेश पाण्डे, उदय रावत, विनोद रावत, नरेश रावत, राकेश भार्गव, बृजमोहन, रामभरत धाकड़, देवेन्द्र, वकील सिंह गुर्जर आदि शामिल हुए।

कैबीनेट मंत्री और सांसद को भी सौंप चुके हैं ज्ञापन
मप्र सहकारिता कर्मचारी महासंघ द्वारा अपनी लंबित मांगों को लेकर शिवपुरी प्रवास पर आई मप्र शासन की कैबीनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से मप्र सहकारिता समिति कर्मचारी संघ का प्रतिनिधि मण्डल स्थानीय सर्किट हाउस में मिला और अपनी समस्याओं के संदर्भ में ज्ञापन भी कैबीनेट मंत्री को सौंपा।

इस दौरान कैबीनेट मंत्री श्रीमती सिंधिया ने मप्र सहकारिता कर्मंचारियों की लंबित मांगों को लेकर शीघ्र मुख्यमंत्री से चर्चा कर उचित निराकरण करने का आश्वासन इस प्रतिनिधि मण्डल को दिया। इसके बाद शिवपुरी प्रवास पर आए सांसद डॉ.के.पी.यादव को भी मप्र सहकारिता कर्मचारी महासंघ द्वारा लंबित मांगों को लेकर ज्ञापन दिया गया। इसके अलावा जिला स्तर और तहसील स्तर पर भी सहकारिता कर्मचारियों के द्वारा ज्ञापन सौंपकर अपनी मांगों को पूर्ण की गुहार पूर्व में लगाई जा चुकी है।