श्रीराम जन्मभूमि के लिए कर रहे थे चंदा, इधर बलात्कार मामला दर्ज हो गयाःबजरंग दल उग्र - Shivpuri news

शिवपुरी। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आज बजरंग दल ने एक आवेदन सौपा हैं,इस आवेदन से अवगत कराया हैं कि चुनावी रंजिश के कारण इंदार थाने में एक  झूठा बलात्कार का मामला दर्ज किया हैं। मामला भी आनन फानन में बिना जांच किए दर्ज किया हैं। इस कारण बजरंग दल ने उग्र होते हुए आंदोलन की चेतावनी तक दे डाली।

जानकारी के अनुसार इंदार थाने में 28 जनवरी को एक महिला के बयानो के आधार पर बलात्कार का मामला दर्ज किया गया हैं । इस मामले में आरोपी बनाया गया हैं रामसेवक परिहार बजरंग दल खंड अध्यक्ष इंदार क्षेत्र। इसी मामले में आज बजरंग दल के नेता ओर कार्यकर्ता एस पी शिवपुरी के पास आए थे।

एसपी शिवपुरी राजेश सिंह चंदेल आज मुख्यालय पर नही थे इस कारण अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपां। ज्ञापन में कहा गया कि जिस महिला को इस मामले में फरियादी बनाया गया हैं वह महिला इससे पूर्व भी ऐसे ही 2 मामले अन्य लोगो पर दर्ज करा चुकी हैं।

ज्ञापन में बताया गया हैं कि इस मामले आरोपी बनाए गए रामसेवक परिहार एफआईआर में दर्ज समय में खतौरा में अपने साथियो के साथ श्रीराम भूमि निर्माण का धन एकत्रिकरण कर रहे थे। एक समय में एक आदमी 2 स्थानो पर कैसे हो सकता हैं,जांच का विषय हैं।

इस मामले में ग्रामीणो सहित रामेसवक के साथियो ने शपथ पत्र भी प्रस्तुत किया हैं कि रामसेवक घटना के समय साथ थे। बजरंग दल ने ज्ञापन में मांग की हैं कि इस मामले की जांच कराई जाए और इंदार थाना प्रभारी पर कार्रवाई की जाए नही तो बजरंग दल उग्र प्रर्दशन करेगा।


यह ज्ञापन दिया हैं
रामसेवक परिहार जो कि विश्व हिन्दू परिषद बजरंगदल का कार्यकर्ता है जो वर्तमान में चल रहे राममंदिर निधि समर्पण अभियान में लगा हुआ है । दिनांक 28.1.2021 को रात्रि 11.00 बजे तक रामरोवक अन्य कार्यकर्ताओं के साथ खतौरा में धनसंग्रह का कार्य कर रहा था।

अन्य कार्यकर्ता ने रात्रि 11.00 बजे उसे ग्राम इन्दार में छोडा है चूंकि रामसेवक समाजसेवी प्रवृत्ति का व्यक्ति हे उसके द्वारा पूर्व में ग्राम पंचायत के प्रतिनिधि की आर्थिक अनियमितताओं की शिकायत विधायक ,सांसद एवं मान.उच्च न्यायालय में भी की हैं।

इसी कि चलते राजनैतिक प्रभावशाली व्यक्ति द्वारा थाना प्रभारी से सांठगांठ कर रात्रि 11.00 बजे एक महिला द्वारा धारा 376 झूठी कार्यवाही करवाई गई थाना प्रमारी ने भी वगैर जांच किये प्रकरण कायम किया और सुबह 7 बजे रामसेवक को गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया।