नववर्ष के जश्न पर भारी रहा कोरोना,मंदिरों में हुआ प्रसाद वितरण,माधवचौक पर लोकगीत - Shivpuri News

शिवपुरी। वर्ष 2020 के बीतते ही दुनिया नववर्ष में प्रवेश कर गई है। लेकिन इस बार नववर्ष का सेलिब्रेशन कोविड-19 के कारण फीका रहा। शहर में नववर्ष पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम नहीं हुए। वहीं पुलिस की सख्ती के चलते लोग बाजारों में नहीं आ सके। जिस कारण नववर्ष का जश्र नहीं मन सका।

हालांकि इक्का दुक्का स्थानों पर युवाओं की टोलियां नववर्ष को सेलिब्रेट करते देखी गईं। कई जगहों पर आतिशबाजी भी की गई। लेकिन पुलिस के डर से कहीं भी भीड़ एकत्रित नहीं हो सकी। होटलों और रेस्टोरेंटों में भी कम ही लोग नववर्ष सेलिब्रेशन करते देखे गए। आज सुबह माधव चौक चौराहे पर स्थानीय मंडली द्वारा लोकगीत का कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें गायक कलाकारों ने नववर्ष को लेकर लोकगीत गाए। 

पिछले वर्ष शहर के विभिन्न होटलों और गार्डनों में युवाओं द्वारा कई इवेंट्स आयोजित किए गए। कई स्थानों पर आर्केस्ट्रा के कार्यक्रम हुए। मंदिरों पर भगवान को छप्पन भोग के साथ भजन संध्या के कार्यक्रम किए गए। लेकिन इस वर्ष इन सभी कार्यक्रमों पर सख्ती रही। जिस कारण कोई भी बड़ा कार्यक्रम शहर में आयोजित नहीं हो सका। जिससे होटल संचालकों और गार्डन मालिकों को काफी नुकसान हुआ। 

नववर्ष के जश्र के लिए होटलों और गार्डनों में होने वाले इवेंट्स स्थगित किए गए। नववर्ष से पहले एसपी राजेश सिंह चंदेल ने शहरवासियों से नववर्ष के जश्र को स्थगित करने की अपील की थी। हालांकि शासन द्वारा 200 लोगों को एकत्रित होने की अनुमति दी थी। जिसके तहत मंदिरों पर धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। 

शहर के माधव चौक हनुमान मंदिर पर भजन संध्या का कार्यक्रम हुआ। इसके बाद प्रसाद वितरण किया गया। जिसमें भक्त मंडली द्वारा मंदिर पर आने वाले भक्तों के लिए बेडई, सब्जी, गाजर का हलवा, पकोड़े, कॉफी व अन्य वस्तुओं का इंतजाम किया गया। वहीं सुबह मंदिरों के साथ-साथ शहर के कई स्थानों पर खिचड़ी व हलवे के प्रसाद का वितरण किया गया। शिवपुरी टॉकिज के नीचे लोकगीत गायक कलाकारों ने नववर्ष के स्वागत में लोकगीतों का गायन किया।