दक्षता परीक्षा किताबें सामने रखकर भी 10 शिक्षक पास नहीं सकें परीक्षा, अब क्या होगा छात्रों का भविष्य - Shivpuri News

शिवपुरी। जिले भर में शासन द्वारा शिक्षकों की दक्षता परीक्षा का आयोजन किया था। इसमें जिले के 10 शिक्षक 50 प्रतिशत से कम अंक पर ही सिमट कर रह गए। जबकि परीक्षा देने के लिए इन्हें सामने पुस्तक रखने की सुविधा भी दी गई थी। यानी शिक्षक सामने किताब रखकर नकल भी ठीक नहीं कर सके और दक्षता परीक्षा में उत्तीर्ण नहीं हो सके।

जिले में कुल 10 शिक्षकों को 50 प्रतिशत से कम अंक मिले हैं। इसमें सबसे ज्यादा 4 शिक्षक पोहरी तहसील के बताए गए हैं। अब इन शिक्षकों को मार्च में दोबार परीक्षा देना होगी। यदि मार्च की परीक्षा में भी यह 50 प्रतिशत से कम अंक लाते हैं तो फिर इन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी ने सभी शिक्षकों को नोटिस भी दे दिया है। जिन 10 शिक्षकों के 50 प्रतिशत से कम अंक आए हैं उनमें 4 माध्यमिक कक्षा और 6 हायर सेकेंडरी कक्षाओं के हैं। अधिकांश को सोशल साइंस और मैथ्स में कम नंबर मिले हैं।

बेटरमेंट कक्षाएं शुरू

दक्षता परीक्षा में तीन कैटेगरी थीं। इसमें 70 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले शिक्षकों को दक्ष माना गया। वहीं 50 से 70 फीसदी तक अंक लाने वालों में सुधार की गुंजाइश है और 50 प्रतिशत से कम अंक लाने वाले शिक्षकों को कार्रवाई के दायरे में रखा गया। मार्च में इन्हें परीक्षा देने का एक और मौका मिलेगा।

यदि इसमें भी पास नहीं हुए तो फिर कार्रवाई की जाएगी। 70 प्रतिशत से कम अंक लाने वालों के लिए गत शनिवार से बेटरमेंट कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं। इसमें शिक्षकों को ऑनलाइन पढने का विकल्प भी दिया जा रहा है।

इन स्कूलों के शिक्षकों के आए 50 प्रतिशत से कम

शा. माध्यमिक विद्यालय अमोलपठा करैरा के रामप्रकाश शर्मा को विज्ञान में, पोहरी शा. माध्यमिक विद्यालय उपसिल के रामअवतार शर्मा को सोशल साइंस, पोहरी के शा. माध्यमिक विद्यालय बेरजा के बैजनाथ प्रसाद को सोशल साइंस, शा. माध्यमिक विद्यालय बिलुआ के जगदीशचंद धानुक को सोशल साइंस, शा. हासे स्कूल दुमदुमा के राजकुमार गुप्ता, शासकीय स्कूल कालीपहाड़ी के अरुण तिवारी को मैथ्स, शासकीय हासे स्कूल मालावानी के देवेंद्र शर्मा को मैथ्स, सिनवालकला खनियांधाना के कृष्णपाल गौर को मैथ्स, हरिजन बस्ती स्कूल पिछोर केाा प्रवीण गुप्ता को मैथ्स और शासकीय हासे स्कूल बीलवलमाता के शिक्षक राजाराम वर्मा को साइंस में 50 प्रतिशत से कम अंक मिले। इन्हें मार्च में दोबारा परीक्षा देना होगा।