शोर्ट एकाउंटर में 80 हजार का राजस्थान का कुख्यात डकैत जिंदा गिरफ्तार: उनि ब्रजमोहन रावत बने नायक - Shivpuri News

शिवपुरी। आज शिवपुरी पुलिस का दिन दिपावली जैसा रहा हैं,मात्र 12 घंटे के अंदर कोलारस थाना क्षेत्र से हुए अपहत्त रेवाडी की सकुशल वापसी हो गई और शोर्ट एंकाउटंर में राजस्थान का कुख्यात डकैत बेजू गुर्जर पुलिस ने जिंदा गिरफ्तार कर लिया। इस शोर्ट एंकाउंटर एडी टीम के सदस्य उनि ब्रजमोहन रावत नायक बनकर उभरे हैं। 


जैसा कि विदित हैं कि मंगलवार की देर शाम 7 बजे कोलारस थाना क्षेत्र बीसभुजी माता मंदिर के पास जंगल से सेवाराम रेवारी के डेरे से मुंशीलाल रेवाडी का अपहरण तीन बंदूकधारियो डकैतो ने कर लिया डकैत की पहचान राजस्थान के कुख्यात डकैत बेजू उर्फ बैजनाथ गुर्जर के रूप में हुई। इस अपहरण को लेकर डकैतो ने 10 लाख की फिरौती की मांग की।

इस अपहरण की सूचना पर कोलारस अपराध क्रमांक 490/20 धारा 364 - ए आईपीसी एवं 11.13 एमपीडीपीके एक्ट का कायम कर तत्काल सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन अविनाश शर्मा के निर्देशन एवं पुलिस अधीक्षक शिवपुरी राजेश सिंह चंदेल के मार्गदर्शन में थाना कोलारस , बदरवास और रन्नौद एवं ऐडी टीम के फोर्स को तत्काल मौके पर भेजकर जंगल सचिंग शुरू की गई ।

पुलिस जंगलो में संर्चिंग कर रही थी तभी एक ग्रामीण द्वारा बताया गया कि सिंध नदी के किनारे तीन बदमाश रायफले लिये हुये दिखे थे,जिनके साथ एक पकड़ भी थी, उसके हाथ बंधे हुये थे जिसे धक्का देते हुये टीला के जंगल तरफ ले जा रहे थे। उक्त सूचना से वरिष्ठ अधिकारियो को अवगत कराकर ग्रामीण द्वारा बताये गये स्थान की तरफ रात्रि में ही सचिंग की गई।

बताया जा रहा है कि सुबह करीब 06:00 बजे तक एम्बुस करने के उपरांत पुनः सावधानी पूर्वक नदी किनारे सचिंग आरंभ की। प्रातः लगभग 07:15 बजे सचिंग पार्टी में आगे चल रहे उनि ब्रजमोहन रावत को एक व्यक्ति हाथ मे बंदूक एवं दूसरे हाथ में पानी की कट्टी लेकर नदी तरफ आता दिखा, जिसके हाथ में बंदूक होने से बदमाश होने की आशंका होने से उनि. ब्रजमोहन रावत ने स्वंय को पेड़ की ओट मे छिपाते हुये पीछे आ रही सचिंग पार्टी को सचेत किया तो पूरी टीम ने भी पेङ एवं पत्थरो की आड लेकर स्वंय को छिपा लिया।

वह व्यक्ति नदी से पानी भरकर चलने लगा तो सचिंग पार्टी के सदस्य भी उनि .ब्रजमोहन रावत के पीछे-पीछे अपने आप को छिपाते हुये व्यक्ति की दिशा में बढ़ने लगे,लगभग 50 मीटर चलने के बाद देखा तो एक व्यक्ति जिसके हाथ बंधे हुये थे सिंध नदी किनारे पेड़ के नीचे बैठा था एवं उसके पास दूसरा व्यक्ति बंदूक लेकर बैठा था तथा एक अन्य व्यक्ति चट्टान पर खड़े होकर पहरेदारी कर रहा था।

उक्त व्यक्तियों के बदमाश एवं उनके पास अपहृत होने का भरोसा होने पर थाना प्रभारी कोलारस द्वारा उनि.मनीष जादौन सउनि.प्रवीण त्रिवेदी प्र.आर. देवेन्द्र एवं आर .चंद्रभान को उन व्यक्तियों को घेरने का इशारा कर अपने आप को छुपाते हुये आगे बढ़ने लगा तभी पहरेदार बदमाश की नजर पुलिस टीम पर पड़ी और उसने अपने साथियों को चिल्लाकर सतर्क करते हुये पुलिस टीम की तरफ जान से मारने नियत से फायर किये।

पुलिस टीम द्वारा बदमाशों को पुलिस होने का परिचय देते हुये आत्मसमर्पण होने हेतु ललकारा गया किन्तु अन्य दोनों बदमाश भी हमे जान से मारने की नियत से अंधाधुन्ध फायरिंग करने लगे।पुलिस द्वारा डकैतों की ओर आत्मरक्षा में जवाबी कार्यवाही की गई। मुठभेड़ के दौरान अपहृत को मुक्त कराकर एक डकैत को गिरफ्तार किया गया है,डकैत का नाम बेजू गुर्जर उर्फ बैजनाथ म.प्र व राजस्थान शासन की ओर से कुल 80,000 रूपये का इनाम घोषित हैं। 

डकैत के कब्जे से 303 बोर मार्क 3 रायफल एवं 26 कारतूस अपने कब्जे में लेकर डकैत के कब्जे से मिली 303 बोर रायफल एवं 26 जिंदा राउंड मय बिल्डोरिया तथा घटना स्थल से मिले हैं। दो डकैत पत्थर एवं जंगल का लाभ उठाकर भाग गए हैं, जिनकी सचिंग अभी जारी हैं।