कोरोना के बीच इतनी बड़ी चूक: अस्पताल से गायब कोरोना पॉजिटिव महिला, जिम्मेदारों का बचकाना बयान, मेरे संज्ञान में नहीं

प्रिंस प्रजापति@ बैराड़। जिले में नवागत कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने जब से पदभार ग्रहण किया है। तब से ही वह कोरोना को लेकर तमाम प्रयास कर रहे है। कोरोना की बढते मामलो को देखते हुए सीएससी केन्द्रों तक पर स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना ट्रेस्ट की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी। परंतु उसके बाबजूद लापरवाही की हद तो देखिए। 24 घंटे से कोरोना पॉजीटिव महिला का कोई अता पता नहीं है। यहां तक को ठीक है। परंतु जिम्मेदारों ने जो बचकाना बयान दिया वह चौकाने बाला है। कि उन्हें जानकारी ही नहीं है।

जानकारी के अनुसार बैराड़ नगर के सरकारी अस्पताल में रविवार को अपने नवजात बच्चे का इलाज कराने पहुंची महिला रवीना पत्नि अतर सिंह जाटव उम्र 26 साल निवासी सहसराम की रैपिड एंटीजन किट से हुई जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद उसके वहां से अचानक गायब हो जाने से पूरे अस्पताल में अफरा तफरी मच गई। अस्पताल प्रशासन ने बैराड़ थाना पुलिस को इसकी जानकारी देते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इस मामले में सूचित कर दिया है।

बैराड़ के सरकारी अस्पताल में ड्यूटी पर मौजूद डॉ नरेन्द्र वर्मा ने बताया कि रविवार की दोपहर करीब 12 बजे सहसराम थाना गसवानी जिला श्योपुर निवासी एक महिला 108 जननी एक्सप्रेस से अपने परिजनों के साथ अपने नवजात बच्चे का इलाज कराने अस्पताल आई थी। इस दौरान महिला में कोरोना जैसे लक्षण नजर आने पर अस्पताल में पदस्थ मेल नर्स कुलदीप श्रीवास्तव द्वारा कोरोना सैंपल लेकर रैपिट एंटीजन किट से जांच की तो महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई।

अस्पताल प्रशासन द्वारा महिला को 108 एम्बुलेंस से शिवपुरी जिला अस्पताल के कोविड अस्पताल में शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही थी। इसी दौरान महिला अपने परिजनों के साथ वहां से अचानक गायब हो गई। कोरोना पॉजिटिव महिला के अचानक गायब हो जाने से अस्पताल में हड़कंप मच गया।

तुरंत ड्यूटी डॉ नरेन्द्र वर्मा ने बैराड़ पुलिस को सूचना दी। मोबाइल से परिजनों से संपर्क करने की कोशिश की गई, मगर परिजनों द्वारा कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया गया। बैराड़ पुलिस ने अस्पताल पहुंच कर मामले की जानकारी लेकर श्योपुर जिले के गसवानी थाने पर सूचना देकर महिला की तलाश शुरू कर दी है। खबर लिखे जाने तक महिला का पूरा परिवार गांव से भी गायब है। उसका कुछ भी पता नहीं चल पाया है। पुलिस खाली हाथ लौट आई है।

यहां तक तो ठीक है परंतु जब इस मामले को लेकर बैराड अस्पताल में कोविड वार्ड इंचार्ज डॉ हरीश आर्य से बात की तो उन्होने जो जबाव दिया वह चौकाने बाला था। डॉ आर्य का कहना है कि कौन सी महिला और कहा से गायब हुई है। मुूझे आप नाम बता दे मैं दिखवा लेता हूं। अब जिम्मेदारों का इस तरह का बयान गले नहीं उतर रहा है। आखिर इनकों कैसे इस बेहद संबेदनशील कोविड 19 का इंचार्ज बना दिया।

इनका कहना है
हां एक महिला गायब हुई है। इतना मुझे पता है। बांकि बैराड अस्पताल में कोविड के इंचार्ज डॉ आर्य है। आप उनसे बात कर लीजिए वह ही पूरी जानकारी आपको बता पाएंगे।
डॉ शशांक चौहान,बीएमओ पोहरी

जब इस मामले की जानकारी अधिकारीयों को दी उसके बाद हरीश आर्य ने फोन लगाकर बताया कि यह महिला कल आई थी। हम इसको शिवपुरी सिप्ट करने के लिए एम्बुलेंस का इंतजार कर रहे थे। परंतु तभी यह महिला गायब हो गई। में आपको बता तो रहा था आपने अधिकारीयों को क्यों बता दिया।
डॉ हरीश आर्य, प्रभारी कोविड 19 सीएससी बैराड़