राज्यमंत्री राठखेडा के भांजे की जंगल में मिली लाश,हत्या या आत्महत्या अभी स्पष्ट नही / POHRI NEWS

पोहरी। छर्च थाना क्षेत्र के पुरा गांव से दो दिन पूर्व गायब हुए राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा के भांजे अनिल धाकड़ की लाश कड़वानी के जंगल में मिली है। मौके से पुलिस ने अनिल का मोबाइल, बाइक और चप्पलें भी बरामद की हैं। अनिल का शव दो दिन पुराना बताया जा रहा है।

पुलिस इस मामले को आत्महत्या बता रही है और हत्या से इंकार कर रही है। पोहरी एसडीओपी निरंजन राजपूत का कहना है कि मृतक का पीएम कराया गया है। जिसकी रिपोर्ट आने के बाद और स्पष्ट रूप से आगे कुछ कहा जा सकेगा। फिलहाल मामले में मर्ग की कायमी कर ली गई है और विवेचना प्रारंभ हो गई है।

जानकारी के अनुसार अनिल पुत्र ब्रजमोहन धाकड उम्र 28 वर्ष निवासी पुरा छर्च बीते 24 अगस्त को घर से अपनी बाइक क्रमांक एमपी 33 एमके 9164 यह कहकर ले गया था कि वह बाइक ठीक कराकर जल्द लौट आएगा। लेकिन इसके बाद से वह घर नहीं लौटा। इसके बाद परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। बुधवार को परिजनों ने थाने में अनिल के गायब होने की सूचना दी।

इसके बाद पुलिस बल और परिजन अनिल की तलाश में जुट गए और रात्रि के समय कड़वानी के जंगल में उसकी बाइक खड़ी मिली और कुछ दूरी पर ही अनिल की लाश पड़ी थी। जिसके पास में उसका मोबाइल और चप्पलें भी थीं। अनिल के शरीर पर कोई चोट का निशान नहीं था।

जिससे प्रतीत हो कि अनिल क साथ कोई अनहोनी हुई हो। पुलिस ने मौके से अनिल के शव को उठाकर अस्पताल भेजा। वहीं उसकी बाइक व अन्य सामान जप्त कर लिया। प्रथम दृष्टया अनिल द्वारा आत्महत्या करने की बात सामने आई है और पुलिस भी इसे आत्महत्या ही मान रही है। हालांकि पुलिस का कहना है कि पीएम रिपोर्ट आने के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि अनिल ने आत्महत्या की है या उसकी हत्या की गई है।

लॉकडाउन के दौरान अनिल के पिता की सडक़ दुर्घटना में हुई थी मौत

मृतक अनिल राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा का भांजा है। बताया जाता है कि अनिल पिता की मृत्यु के बाद घर का जिम्मेदार व्यक्ति था। अनिल के पिता की लॉकडाउन के दौरान पोहरी में जेल रोड़ के पास दो बाइकों की आपस में भिडंत के कारण मौत हो गई थी। इसके बाद घर की पूरी जिम्मेदारी अनिल पर आ गई थी और दो दिन पूर्व वह अचानक घर से गायब हो गया और रात्रि में उसकी लाश मिलने से परिवारजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। परिवार के लोगों का कहना है कि उसे ऐसी कोई परेशानी नहीं थी, जिससे वह आत्महत्या जैसा कदम उठा सके। आर्थिक रूप से भी परिवार काफी सम्पन्न था।

तीन माह पूर्व हुआ था अनिल का विवाह

अनिल का जून माह में विवाह हुआ था। पिता की मौत के बाद परिवार को दुख से उभरने का यह काफी सुखद दिन था। अनिल के विवाह से परिवारजन काफी खुश थे। लेकिन उनकी यह खुशी ज्यादा दिनों तक नहीं चल सकी और उनकी खुशी में एक बार फिर दुखों का पहाड़ अनिल की मौत के कारण टूट पड़ा है।

राज्यमंत्री राठखेड़ा पर विपत्तियां नहीं हो रही कम

मध्यप्रदेश सरकार में राज्यमंत्री राठखेड़ा पर एक के बाद एक विपत्तियां आती ही जा रही है। इसकी शुरूआत उनके विधायक पद से इस्तीफे के साथ शुरू हो गईं। जिस दिन उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दिया, उसी रात उनकी पुत्री ने ससुराल में आत्महत्या कर ली। इस गम से वह उभरे ही नहीं थे कि कुछ समय बाद ही उनके बेहनोई ब्रजमोहन धाकड़ का सडक़ दुर्घटना में निधन हो गया। उनके भाई पर हत्या का मामला दर्ज हुआ और अब उनके दिबंगत बेहनोई के पुत्र और उनके भांजे अनिल धाकड़ की मृत्यु हो गई। इससे पूर्व उनके दो सालों पर हत्या के मामले दर्ज हुए जिससे लगातार उन पर और उनका परिवार परेशानियों से जूझ रहा है।