पिता के इंतकाल के बाद अब पुत्र जनाब काजी वली उद्दीन बने शहर काजी / SHIVPURI NEWS


शिवपुरी। मुस्लिम धर्मगुरू के रूप में पहचान और प्रेम व सद्भाव की मिसाल बनने वाले मरहूम शहरकाजी कुतुबुद्दीन के इंतकाल के बाद उनके रिक्त स्थान की पूर्ति हेतु मुस्लिम समाज द्वारा सर्वसम्मति से उनके पुत्र जनाब काजी वली उद्दीन सिद्धीकी को शहरकाजी की पदवी दी गई जिसकी दस्तारबंदी शिवपुरी शहर के तमाम बुजुर्गों, जिम्मेदारों और तमाम खासो ओ आम मुसलमानों की मौजूदगी में मौलाना मुस्लिम साहब द्वारा की गई।

यहां नए शहरकाजी वलीउद्दीन सिद्धीकी साहब को काजी ए शहर दस्तारबंदी मरहूम शहरकाजी साहब की वसीयत के मुताबिक की गई जिस पर सभी ने सहमति व्यक्त की और किसी ने कोई आपत्ति दर्ज भी नहीं की जिस पर यह दस्तारबंदी की रस्म पूरी की गई। अब से शिवपुरी के नए शहरकाजी वलीउद्दीन सिद्धीकी साहब होंगें और काजी साहब की सारी विरासत के वारिस होने के एतवार से सारी विरासत के हकदार काजी वलीउद्दीन सिद्धीकी साहब ही हैं।

शिवपुरी शहर के मुस्लिम समाज के जिम्मेदार लोगों की मौजूदगी में वलीउद्दीन सिद्धीकी साहब को यह विरासत सौंपी गई है जिस पर सभी मुस्लिम समाज के द्वारा नए शहरकाजी वलीउद्दीन सिद्धीकी को साफा व माल्यार्पण पर उनकी आगवानी की गई व स्वागत किया गया।

इस अवसर पर समस्त मुस्लिम समाजजनों ने बधाईयां व शुभकामनाऐं दी है और आशा व्यक्त की है कि नए शहरकाजी अपने पूर्वज पिता के अनुसार ही उनके पदचिह्नों पर चलकर शहरकाजी का दायित्व निभाकर समाज में शांति, भाईचार की अनूठी मिसाल पेश करेंगें।