श्रीराम कॉलोनी में विवाहिता की मौत, मामला संदिग्ध, शहर में हल्ला, कोई सामने आने तैयार नहीं / Shivpuri News

शिवपुरी। शहर की श्रीराम कॉलोनी में कल एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जानकारी के मुताबिक श्रीराम कॉलोनी में रहने वाली एक विवाहिता के घर वालों ने शनिवार सुबह 5 बजे ही बिना अर्थी सजाए उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया और पुलिस को कानोकान खबर तक न हुई।

मृतिका का पति झोलाछाप डॉक्टर बताया जाता है, जबकि उसका देवर ग्रामीण क्षेत्र में शासकीय शिक्षक बताया जाता है। मामला इसलिए खुला क्योंकि शनिवार सुबह जब इस घर पर अचानक शव वाहन आकर रुका तो मोहल्ले वालों को शक हो गया, कुछ पड़ोसियों को बताया गया कि बहु की तबियत खराब थी,मोहल्ले में इसलिए शंका का माहौल बन गया क्योंकि न तो अर्थी सजी न किसी को बुलाया और आनन फानन में एक साड़ी में महिला के शव को ले जाया गया।

घटना के तुरंत बाद मोहल्ले वाले सक्रिय हो गए और कानाफूसी के बाद ये बात शहर में जंगल में आग की तरह फैल गयी कि एक महिला को उसके घर वालों ने बिना पोस्टमार्टम कराए जला दिया और पुलिस मामले से पल्ला झाड़ रही है।शक का आधार ये भी है कि बिना पुलिस को सूचना दिए बिना पी एम बिना मृतिका के मायके वालों को बताए जल्दबाजी में महिला को जलाया गया। किसी रिश्तेदार को तो छोड़ो मोहल्ले वालों तक को नहीं बुलाया गया।

बताया जाता है कि महिला झांसी की रहने वाली थी जिसका विवाह शिवपुरी में हुआ था। मोहल्ले वालों का तो यहां तक कहना है कि शादी के बाद से ही अक्सर महिला की पिटाई उसके देवर देवरानी और सास करते रहते थे यदि कोई बीच बचाव करता तो ये लोग उससे भी झगडऩे लगते थे।

इस परिवार की पृष्टभूमि भी आपराधिक गतिविधि वाली बताई जाती है,मृतिका का ससुर बैंक कर्मचारी होकर चारसौबीसी के मामले संलिप्त रहा जबकि उसका देवर डंडा बैंक का सदस्य बताया जाता है, घर में भी  पिछले महीने एक अपहरण की झूठी वारदात पुलिस तक पहुंची थी, जिसका हाल ही में पटाक्षेप हुआ था। यही वजह रही कि जब लोगों ने शव वाहन देखा तब भी किसी की इनसे उलझने की हिम्मत नहीं हुई। उधर इस मामले में अब तक फरियादी न होने से पुलिस भी निष्क्रिय दिखाई दे रही है।

यह है सबाल जो मामले को बना रहे है संदेहास्पद

1.यदि मौत बीमारी से हुई तो पी एम कराने से क्या परेशानी
2.रीति रिवाज छोड़े, अर्थी तक न सजाई
3.मोहल्ले वालों से छुपाव क्यों
4.मायके वालों के बिना आये जल्दबाजी में अंतिम संस्कार क्यों
5.कैसे मरी, इस पर परिवारीजनों के अलग अलग बयान
6.मोहल्ले वालों में शुक्रवार से ही ये बात फैलानी शुरू कर दी कि बहू छत से गिर गई,जबकि इसके बाद कुछ मोहल्ले वालों ने उसे सलामत देखा था।