साली से थे जीजा के अवैध संबधं: इस कारण गटका था पति ने जहर, रिश्तो फेर में उलझी अजीब कहानी / khaniyadhana News

खनियांधाना। खनियाधानां क्षेत्र में बीते 2 मार्च को एक लाश के मामले में पुलिस ने एक मृतक की पत्नि और उसके मामा के परिवार के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यहां रिश्तो को कलंकित करने वाला काला सच निकला हैं कि कैसे इंसान एक पवित्र रिश्तो को कलंकित करता है। इस घटनाक्रम में सवाल बडा बनता हैं कि मृतक की पत्नि के अवैधं सबंधं अपने जीजा से थे यहा अपने मामा ससुर और उस व्यक्ति से जीसने उसका कन्यादान लिया हो।

यह था रिश्तो के जाल तें उलझा एक अजीब काण्ड

बीते 2 मार्च को मृतक अजीत सिं पुत्र गजेन्द्र सिंह सेंग उम्र 28 साल निवासी गुना हाल निवासी भोंडन की लाश उसी के कमरे में मिली थी। युवक शराब पीने का आदि था। जिसके चलते पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर मामला विवेचना में ले लिया था।

बताया गया है कि मृतक अजीत सेंगर के मामा कृष्णपाल सिंह सिकरवार जो कि भोडन के निवासी है के यहां अजीत का आना जाना था। इसी के चलते कृष्णपाल सिंह सिकरवार ने अपनी साली आरती सेंगर के साथ अजीत की शादी करा दी। उसके बाद अजीत अपनी पत्नि आरती के साथ गुना रहने लगा।

बताया गया है कि आरती बचपन से ही अपने जीजा कृष्णपाल के पास ही रहती थी। जिसके चलते कृष्णपाल ने ही उसकी शादी की थी। आरती की शादी के महज 1 माह बाद दोनों पति पत्नि ग्राम भोडन में ही रहने लगे। इस दौरान मृतक शराब भी पीने लगा। बीते 2 मार्च को अजीत की लाश उसके कमरे मे मिली। जिसपर से पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला विवेचना में ले लिया था।

मर्ग जांच में सामने आया कि उक्त युवक की मौत शराब पीने से नहीं बल्कि जहरीले पदार्थ के खाने से हुई है। मृतक के परिजनो का आरोप है कि आरोपी कृष्णपाल और उसकी साली आरती के बीच अवैध संबंध थे। जिसके चलते यह सभी मिलकर अजीत को प्रताणित करते थे। इसी प्रताणना से तंग आकर आरोपी ने जहर का सेवन कर लिया।

इस मामले में पुलिस ने मृतक के परिजनों के बयानों और पीएम रिपोर्ट के आने पर आरोपी पत्नि आरती,जीजा कृष्णपाल सिंह सिकरवार,मामी संध्या सिकरवार और उसके बेटे रिषभ सिकरवार निवासी भोडन के खिलाफ धारा 306,34 ताहि के तहत मामला दर्ज कर विवेचना में ले लिया है।

मामला दूध के तरह साफ हैं। मृतक की पत्नि के साथ जीजा के अवैध संबधं थे। लेकिन मृतक की पत्नि का कृष्णपाल ने ही कन्यादान लिया था। हिन्दू धर्म में कन्या दान लेने वाला शख्य लडकी पिता तुल्य हो जाता है। इधर आरोपी मृतक अजीत का मामा भी था। ऐसे अजीत से उसके दो रिश्तो हो गए मामा भानेज और साढू का,लेकिन आरोपी ने अपने भानजे की रिश्तो की मार्यादा का सीमा का उल्घन्न किया इस कारण वह 306 का आरोपी बना।