बोलते फोटो:टूटी टांग को नही मिला स्ट्रेचर, वहीं घायल टांगे खीच रही हैं स्ट्रेचर / Shivpuri News

कविता शर्मा/शिवपुरी। इस समय कोरोना काल चल रहा हैं कोरोना से पूरा देश लड रहा हैं। कोरोना से युद्ध में सबसे ज्यादा उम्मीद स्वास्थय विभाग से हैं। लेकिन इस आपदा काल में भी जिला अस्पताल में लापरवाही की प्रतिदिन तस्वीर सामने आती है। इस आपदा काल में जहां लाखो का बजट आ रहा हैं,लेकिन स्ट्रेचर जैसी चीज अस्पताल में नही है।

टूटी टांग को नसीब नही हुआ स्ट्रेचर


जानकारी के अनुसार बीते गुरूवार को मंझेरा रोड देहात थाना अंतर्गत मुम्बई से कल्याणपुर उप्र जा रही बुलेरो पिकअप गाडी का ड्राइवर की गलती के चलते गाडी का एक्सीडेंट हो गया था जिसमें लगभग 25 मजदूर  घायल हो गये। जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जिसमें राधा उम्र 32 के सिर और पैर में गंभीर चोटें आई हैं। जिसके चलते आज जिला अस्पताल में डॉक्टरों ने उन से पैर का एक्सरे कराने को कहा, लेकिन अस्पताल में हमेशा की तरह यहां भी स्ट्रेचर की व्यवस्था नहीं थी। इस कारण राधा ने उनके परिजनों के सहारे सीढीयों से तीसरे माले से ग्राउड फ्लोर तक अपनी टूटी टांग के सहारे नीचे तक आना पडा।

वही एक स्ट्रेचर को खीचती घायल टांगे


इस फोटो को देखिए इस स्ट्रेचर पर एक मरीज लेटा हुआ हैं एक टूटी टांग लेकर एक मरीज स्ट्रेचर से इसे खीच रहा हैं, एक टूटी टांग इसे धकेल रही हैं,यह फोटो स्वयं अस्पताल की लापरवाही को उजागर करता है।

एक आपात काल में जब मजदूरो का सैलाब महाराष्ट्र से यूपी की ओर निकल रहा हैं और प्रतिदिन एक्सीडेंट हो रहे हैं ऐसी स्थिती में अस्तपाल में स्टाफ नही है। यह सोचने वाली बात हैं। यहां मरीजों को ना तो सेनेटाइजर उपलब्ध है और न ही पीने का पानी। कोरोना काल में हालात यह है कि जिला चिकित्सालय में चारों ओर गंदगी पसरी हुई हैं।