कोरोना के कारण भगवान भी नही देंगें जनता कर्फ्यू वाले दिन भक्तो को दर्शन | Shivpuri news

शिवपुरी। पूरे विश्व पर मानव जाति पर संकट बन चुका कोरोना वायरस से अब भगवान भी प्रभावित हो गए। कोरोना वायरस से लडने के लिए देश की पीएम की जनता कर्फ्यू की अपील में जनता तो साथ देने का मन बना ही चुकी हैं। वही भगवान भी अब कोरोना से लडने के लिए तैयार हैं। जनता कर्फ्यू के दिन मंदिरो के पुजारियो व महंतो ने 22 मार्च रविवार को मंदिर के दर्शनो के लिए आम जनो के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। वही राजेश्वरी मंदिर के 2 अप्रैल तक दर्शनो के लिए प्रतिवंध रहेगा।

वहीं मंदिर महंतों ने आम जनता से भी आह्वान किया कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जनता कफ्र्यू का आह्वान किया गया है उसमें हरेक देशवासी भागीदार बनें और मंदिरों में पूजन करने के बजाए अपने-अपने घरों में ही भगवान की आराधना-पूजन करें।

इसके साथ ही देर सायं 5 बजे थाली एवं ताली बजाने को लेकर भी लोग जागरूक रहें ताकि वातावरण में यह ध्वनि से कोरोना वायरस पर प्रभाव  पड़े और वह नष्ट हो सके इसलिए रविवार 22 मार्च को जनता कफ्र्यू में हरेक देशवासी, शिवपुरी योगदान देकर इसे सफल बनाऐं।

        अधिकांशत: सभी मंदिर हुए प्रभावित, पूजा के बाद मंदिर रहेंगें बंद
वैसे तो कोरोना वायरस का प्रभाव मानव जाति के लिए गंभीर है लेकिन इसका असर भगवान के मंदिरों पर भी पडऩा तय है, एक ओर जहां कभी-कभार कोई सूतक लगता है तभी पूजा के बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते है तो वहीं आज ऐसी स्थिति निर्मित हो रही है जिसमें अधिकांशत: सभी मंदिर किना किसी आह्वान के पूजा करने के बाद बंद रहेंगें।

इन मंदिरों के पुजारियों ने भी धर्मप्रेमीजनों से आह्वान किया कि वह आज 22 मार्च रविवार को मंदिरों पर ना आते हुए अपने ही घरों पर विधि-विधान से पूजा अर्चना करें और मानवजाति के लिए गंभीर कोरोना वायरस के विनाश के लिए ईश्वर से प्रार्थना करें।

श्रीबांकड़े, खेड़ापति, बड़े हनुमानजी, पातााली, मंशापूर्ण हनुमान मंदिर रहेंगें बंद
कोरोना वायरस के प्रभाव को देखते हुए समस्त धर्मप्रेमीजनों को आज मंदिर ना आने का संदेश देते हुए मंदिर महंतों मंदिर में प्रवेश पर आमजन का प्रतिबंध लगाया है। जिसमें श्रीबांकड़े हनुमान मंदिर के महंत गिरिराज जी एवं डॉ.गिरीश महाराज के द्वारा आमजन से बांकड़े मंदिर नहीं आने का आह्वान किया गया और पूजा घर पर बैठकर ही करने का कहा गया है।

इसके अलावा श्रीखेड़ापति हनुमान मंदिर के महंत लक्ष्मणदास जी महाराज ने आमजन से अपील की है कि आज जनता कफ्र्यू को लेकर खेड़ापति मंदिर भी प्रात: पूजापाठ के बाद कपाट बंद कर दिए जाऐंगें। श्रीबड़े हनुमान मंदिर महंत एवं महामण्डलेश्वर पुरूषोत्तदास जी महाराज ने आमजन के स्वास्थ्य की सुखद कामना करते हुए ईश्वर से प्रार्थना की है कि वह 22 मार्च के दिन कोरोना वायरस को समाप्त कर मानव जाति की रक्षा करें और इस दिन बड़े हनुमान मंदिर तुलसी आश्रम को प्रात: पूजा के बाद आमजन के लिए प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

श्रीपाताली हनुमान मंदिर महंत लक्ष्मणदास जी महाराज ने भी लुधावली में स्थित मंदिर पर आने से सभी श्रद्धलुओं को मना किया है और कहा है कि घर पर ही हनुमान जी महाराज की पूजा-अर्चना कर कोरोना वायरस को दूर करने की प्रार्थना हनुमानजी महाराज से करें।

श्रीमंशापूर्ण मंदिर महंत अरूण शर्मा महाराज ने भी प्रात: पूजन के बाद मंदिर के कपाट बंद करने की बात कही है साथ ही अन्य विधि-विधान से घर पर ही पूजा अर्चना कर मानव जाति के कल्याण का कार्य किया जाएगा ऐसा आह्वान आमजन व स्वयं से भी इसकी शुरूआत करने की बात कही।

आर्य समाज एवं गायत्री परिवार करेगा यज्ञ
हवन यज्ञ को प्राथमिकता प्रदान करने के मामलो में अग्रणीय रहने वाले आर्य समाज शिवपुरी व गायत्री परिवार द्वारा भी आज कोरोना वायरस को लेकर विशेष हवन-यज्ञ विभिन्न स्थानों पर किया जाएगा ताकि हवन यज्ञ के माध्यम से मंत्रोच्चारण एवं यज्ञ की आहुतियां पूरे वातावरण में गुंजायमान रहे और मानवजाति के लिए घातक माने जाने वाला कोरोना वायरस समाप्त हो।

इसे लेकर आर्य समाज जहां शहर में ही करीब 20 से अधिक स्थानों पर सामूहिक यज्ञ करने जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर गायत्री परिवार के परिजन भी अपने घर-परिवार में गायत्री मंत्र जाप के साथ यज्ञ करेंगें ताकि कोरोना वायरस के प्रभाव को कम किया जा सके।