कोरोना से जंग में मास्क बनाकर सहयोग दे रही आजीविका मिशन के स्वसहायता समूह की महिलाएं | Shivpuri News

शिवुपरी। मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्वसहायता समूहों द्वारा कम कीमत के वॉशेबल मास्क का निर्माण किया जा रहा है। इन स्वसहायता समूहों की महिलाओं के द्वारा बताया गया कि जब उनको इस गंभीर बीमारी के बारे में पता चला एवं बाजार में हो रही कालाबाजारी को रोकने लिए खुद ही मास्क निर्माण करने की ठानी।

विकासखण्ड करैरा के ग्राम खैराघाट के संतोषी माता समूह की अध्यक्ष श्रीमती द्रोपदी यादव ने बताया कि अभी समूह द्वारा 3000 मास्क का निर्माण किया जा चुका है और 5000 मास्क का निर्माण किया जा रहा है। यह मास्क जरूरतमंद लोगों को उपलब्ध करवाए जाएंगे ताकि लोगों की जिंदगी बचाने में हम भी अपनी भागीदार निभाएं। समूह की सदस्य जानकी यादव, रुकमणी यादव, उर्मिला यादव, भगवती यादव, राजकुमारी यादव, पूजा जाटव, रामबती जाटव  ने बताया की सभी लोगों तक मास्क उपलब्ध हो सके और इसके दाम भी सही हो। उसके लिए हम पूरी लगन से मास्क तैयार कर रहे हैं ताकि मास्क की पूर्ति की जा सके।

पोहरी विकासखंड में भी समूह की महिलायेे  मास्क बनाने का काम कर रही हैं। ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत संचालित स्वसहायता समूह की 15 महिलाओं द्वारा प्रशासन को सहयोग प्रदान करने के उद्देश्य से मास्क निर्माण का सराहनीय कार्य किया जा रहा है। स्वसहायता समूह की सदस्य किरण, रानी, मछला, रजनी, सुनीता आदि का कहना है कि जो मास्क हमारे द्वारा तैयार किए जा रहे हैं वह बाजार में मिलने वाले मास्क से सस्ते दामों में उपलब्ध कराए जायेंगे।

इसी प्रकार विकासखण्ड खनियांधाना के श्री कृष्णा स्वसहायता समूह ग्राम मायापुर की  महिलाएं भी मास्क बना रही हैं। समूह की अध्यक्ष श्रीमती शशी वाई ने बताया कि समूह के द्वारा 3500 मास्क तैयार किए गए है। इस मास्क को ग्रामवासियों व मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा पिछोर, खनियांधाना एवं शिवपुरी में मात्र 10 रूपए के मूल्य पर वितरण किया जा रहा है।.