सरपंचों का कार्यकाल बढ़ाने के संबंध में सौंपा ज्ञापन | Shivpuri News

शिवपुरी। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के नाम जिला कलेक्टर शिवपुरी को पंच सरपंचों का कार्यकाल बढ़ाए जाने एवं आचार संहिता तक निर्माण कार्य करने के लिए बीते रोज एक ज्ञापन प्रदेश उपाध्यक्ष एवं जिला अध्यक्ष पंच सरपंच महासंघ के राम बाबू शिवहरे सरपंच के नेतृत्व में सरपंचों ने एकत्रित होकर ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में प्रदेश प्रभारी बावरिया वा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एवं अन्य जनप्रतिनिधियों के समक्ष भोपाल में  त्रिस्तरीय पंचायत राज संगठन व सरपंच संघ की बैठक में विधानसभा चुनाव से 3 माह पहले आपके द्वारा हमारे 6 माह का कार्यकाल बढ़ाने का आश्वासन दिया गया।

हम सरपंचों के हितों के लिए कई वचन आपके द्वारा वचन पत्र में दिए गए थे। सरकार के मंत्री गणों  कार्यकर्ताओं के समक्ष हमारी परेशानी कई बार बताई गई मगर वर्तमान में आप की सरकार सभी बातें भूल गई क्योंकि हमारे द्वारा पूर्व में आप की सरकार बनाने में हम सरपंचों की मुख्य भूमिका रही है। भाजपा सरकार ने हजारों लोगों को सेंट्रल जेल भोपाल तक पहुंचाया था।

कई कट्टर कांग्रेसी मानसिकता के सरपंचों पर फर्जी धारा 40 की कार्यवाही हुई थी। 2 वर्ष तो नए नियम कानून व ऑनलाइन सिस्टम के आने से समझने में हमारा कार्यकाल तो 50 प्रतिशत खराब हो गया। हम को आप से काफी उम्मीदें थी, और बिना सरपंचों के ग्राम पंचायत चलना असंभव है क्योंकि रोजगार गारंटी सिर्फ जनप्रतिनिधि ही चला सकते हैं।

प्रदेश के 23000 सरपंच आपसे अनुरोध करते हैं, कि वर्तमान सरपंचों को आचार संहिता लगने तक कार्य पूर्ण करने का समय दिया जाए उन्हीं को पद पर या निर्माण समिति के अध्यक्ष के तौर पर निर्माण करने का अधिकार दिया जाए। क्योंकि वर्ष 1999-2000 में चुनाव टल गए थे। जब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा 3 माह के लिए वर्तमान सरपंचों का कार्यकाल बढ़ाया गया था।

हम पंच सरपंच महासंघ मध्य प्रदेश के समस्त कार्यकर्ता एवं वर्तमान सरपंचों ने ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से अनुरोध किया गया है है ज्ञापन देते समय जिला शिवपुरी के समस्त ग्राम पंचायतों के सरपंच मौजूद रहे जिनमें सरपंच संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं जिला अध्यक्ष पंच सरपंच महासंघ के राम बाबू शिवहरे, सरपंच सखी, बलवंत सिंह, सरपंच नरवर, महादेवी, रामकली, चतरा सिंह, नंदकिशोर, मोनू शर्मा, दामोदर सिंह, आशा यादव, गुड्डी सरपंच सहित समस्त जिले के सरपंच ज्ञापन के समय मौजूद थे।