अस्पताल में भर्ती बच्चों की लाइन लगवाने के मामले में, सिविल सर्जन और अधीक्षक को नोटिस

शिवपुरी। लापरवाही और डॉक्टरो की हिटलशाही का ब्रांड बन चुका शिवुपरी का जिला अस्पताल में प्रबंधन की लापरवाही की खबरे सामने आ रही हैं। बीते रोज जिला अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड में बच्चो को लाईन में खडा कर ईलाज करने के मामले में सिविज सर्जन और कॉलेज अधीक्षक को नोटिस जारी किया गया हैं।

यह है मामला
शिवपुरी के जिला अस्पताल में बच्चों के लिए नई बिल्डिंग में दूसरी मंजिल पर तीन वार्ड बनाए गए हैं। यहां करीब 50 से 60 बच्चों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। दोनों शिफ्टों में आने वाले डॉक्टर मासूम मरीजों को पलंग से उतरवाकर लाइन में खड़ा करा रहे हैं तब जाकर उन्हें इलाज नसीब हो पा रहा है।

अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड में मासूम मरीजों के इलाज के नाम पर डॉक्टर मनमर्जी करते दिखाई दे रहे हैं। बच्चों से हमदर्दी तो दूर उन्हें लाइन में देर तक खड़ा रखकर हतोत्साहित किया जा रहा है। भर्ती बच्चों के पर्चों पर लिखकर डॉक्टर चले जाते हैं और नर्सें फिर से बच्चों को लाइन में खड़ा करके बारी-बारी से चेंबर में ही ट्रीटमेंट दे रही हैं।

कुछ बच्चों को ड्रिप चढ़ी रहती है और उनकी मां हाथ में बोतल पढ़कर खड़ी नजर आती है। दूसरे मंजिल पर हाेने की वजह से चिल्ड्रन वार्ड में बहुत कम लोग पहुंच पाते हैं। इससे यहां डॉक्टर और नर्स मनमाने ढंग से मरीजों का इलाज कर रहे हैं।

स्वास्थय मंत्री के निर्देश पर जारी हुए नोटिस, सीएमएचओ भागे-भागे पहुंचे अस्पताल
मीडिया ने जब इस खबर का प्रकाशन किया तो,स्वास्थय मंत्रालय ने खबर को संज्ञान में लेते हुए फोन पर ही सीएमएचओ को निर्देश दिए। सीएमएचओ डॉ शर्मा शुक्रवार की सुबह जिला अस्पताल पहुंचे और आरएमओ डॉ राजकुमार ऋषिश्वर व अन्य डॉक्टर सहित नर्सों से जानकारी ली। इसके बाद सिविल सर्जन डॉ एएल शर्मा और मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक केवी वर्मा को नोटिस जारी किया है।