मां के साथ जिंदा जले तीनों मासूमों की मौत | pichhore news

पिछोर: खबर पिछोर अनुविभाग की हिम्मतपुर चौकी से आ रही हैं कि चौकी अंतर्गत आने वाले पारेश्वर गांव में एक महिला ने अपने पति से दुखी होकर अपने 3 बच्चो सहित अपने आप को आग के हवाले कर दिया था। चारो को ईलाज ग्वालियर चल रहा था। बताया जा रहा हैं कि महिला के तीनो मासूमो ने दर्द से तडपते हुए दम तोड दिया है।

जानकारी के मुताबिक वर्षा (27) पत्नी दिनेश जाटव निवासी पारेश्वर ने सोमवार की शाम 6.30 बजे केरोसिन डालकर तीन बच्चों को आग के हवाले कर दिया, फिर खुद को भी आग लगा ली थी। परिजन ने किसी तरह आग बुझाई और चारों को इलाज के लिए पिछोर अस्पताल लेकर पहुंचे।

डॉ. सुनील राय ने बताया कि गंभीर हालत को देखते हुए चारों को एंबुलेंस से सीधे ग्वालियर रैफर कर दिया गया था। ग्वालियर ले जाते समय एक बच्चे की रास्ते में ही मौत हो गई। दो बच्चों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मरने वालों में 3 महीने का बेटा छाेटू, 3 साल का राजा जाटव, और 5 साल की बेटी सुखिया जाटव शामिल हैं। वहीं आग से खुद मां वर्षा जाटव गंभीर रूप से झुलस गई है। उसका इलाज ग्वालियर में चल रहा है।

पुलिस बोली- बयानों के बाद मुकदमा दर्ज करेंगें
पिछोर थाने की हिम्मतपुर चौकी प्रभारी संजीव पवार मंगलवार को गांव पारेश्वर गए लेकिन यहां अभी किसी से बातचीत नहीं हो सकी है। महिला के लौट आने पर उसके बयानों के आधार पर कार्रवाई होगी। वहीं बच्चों के शव गांव आने पर नम आंखों से अंत्येष्टि की गई। इस घटना से पूरा गांव दु:खी है।

घटना के वक्त घर में वर्षा की बड़ी बेटी सात साल की प्रियंका भी थी। जब मां ने तीन भाई-बहनों पर केरोसीन डालकर आग लगी कथरी फेंकी तो वह कुंदी खोलकर भाग निकली। चश्मदीद प्रियंका जाटव का कहना है कि मां ने घर की अंदर से कुंदी लगा ली थी। मिट्‌टी का तेल छिड़कर दिया और आग लगाकर कथरी डाल दी। यह देखकर वह कुंदी खोलकर भागकर आ गई। वहीं वर्षा जाटव कभी पति के मजदूरी करने इंदौर चले जाने तो कभी सास-ससुर से झगड़े की बात कह रही है।