वनविभाग की टीम के साथ फिर मारपीट, जेसीबी-डंपर छुडा ले गया माफिया, कर रखा है वनभूमि पर कब्जा | karera News

करैरा। खबर जिले के करैरा रेंज के जंगलो से आ रही हैं कि करैरा रेंज की सब रेंज खोड के जंगलो में वनविभाग की टीम को अवैध पत्थर फर्शी के खनन की सूचना पर पहुंची टीम पर माफिया ने हमला कर दिया,घायल वनकर्मी ने खोड चौकी पर रिर्पोट लिखाई हैं। बताया हैं कि आरोपी ने वनभूमि पर कब्जा कर रखा हैं इस माममे में वह सजायाफ्ता हैं,ओर वन विभाग उससे अभी तक अपनी भूमि मुक्त नही करा सका हैंं

जानकारी के अनुसार कुम्हरौआ बीट में पदस्थ वन रक्षक गिरजेश भार्गव पुत्र दामोदर प्रसाद को गांव में सरकारी जमीन पर अवैध उत्खनन की सूचना मिली। सूचना पर 28 दिसंबर की शाम परिक्षेत्र सहायक खोड रामकुमार तोमर व दयाराम यादव, राहुल गुप्ता, सूरज आदिवासी, प्रमोद तिवारी, मोहन लोधी के साथ मौके पर पहुंचे।

डिप्टी रेंजर तोमर के अनुसार मौके पर अवैध उत्खनन करते हुए जेसीबी व दो डंपर जब्ती की कार्रवाई कर ली थी। तभी आरोपी पिलविंद सरदार अपने दो बेटों के साथ 5 बजे जीप से आ गया। गालियां देने लगा और जान से मारने की धमकी देकर बल्लम, लुहांगी व डंडों से बीट गार्ड गिरजेश भार्गव की मारपीट कर दी।

अन्य स्टाफ के साथ भी झूमाझटकी की। हमले में गिरजेश की गर्दन व अन्य जगह चोट आईं हैं। किसी तरह बीच बचाव किया और जान बचाने की खातिर पूरी वन टीम गाड़ी में बैठकर वापस लौट आई।

बताया जा रहा है कि सड़क निर्माण के लिए मिट्‌टी व अन्य मटेरियल निकालने के लिए आरोपी पिलविंदर ने ठेकेदार को अपनी जमीन बताकर रकम ले ली और वन भूमि से उत्खनन कराना शुरू कर दिया।

घटना के बाद करैरा रेंजर अनुराग तिवारी आए और टीम के साथ वापस घटना स्थल पहुंचे। तब तक एलएनटी व डंपर आदि सहित माफिया डंपर और एलएनटी लेकर भाग चुका था। रात 9.57 बजे मायापुर थाने में आरोपी पिलविंदर व दो अन्य के खिलाफ केस कमुकदमा दर्ज कराया है।

पुलिस ने धारा 294, 353, 332, 506, 34 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। घटना के दूसरे दिन पुलिस ने वन टीम के साथ दविबिश दी लेकिन अारोपी फरार हो गए हैंए। रेंजर के अनुसार एलएनटी व डंपरों को जब्त करने के लिए विभाग की ओर से प्रकरण दर्ज कर लिया है। जब्त संबंधित वाहन जब्त कर राजसात की कार्रवाई की जाएगी।

विभाग के पक्ष में फैसला, फिर भी 14 बीघा जमीन कब्जा मुक्त नहीं
सब रेंज खोड़ के पूर्व रेंजर साहबसिंह गुर्जर ने बताया कि आरोपी पिलविंदर ने करीब 3 हेक्टयेर वन भूमि पर कब्जा कर लिया था। कोर्ट में सुनवाई के दौरान विभाग के पक्ष में फैसला आया और अारोपी को छह माह कहा का कारावास व जुर्माना की सजा हुई, लेकिन सजा होने के बाद भी जमीन अभी कब्जा मुक्त नहीं हो पाई है।

हालांकि रेंजर तिवारी का कहना है कि जल्द ही जमीन कब्जा मुक्त कराने की कार्रवाई की जाएगी। किसी भी माफिया को छोड़ा नहीं जाएगा। इस पर एक्शन प्लान बना रहे हैं।

एफआईआर कराने के साथ विभाग ने भी कार्रवाई की है
कुम्हरौआ में कार्रवाई करने गई वन टीम के साथ मारपीट की घटना हुई है। कुछ लोग हमला कर एलएनटी मशीन छीनकर ले गए हैं। मामले में एफआईआर दर्ज करा दी है। विभाग की तरफ से भी कार्रवाई की गई है।

जिन जगहों पर अवैध खनन चल रहा है, सूचना मिलने पर वहां भी कार्रवाई की जा रही है। विभाग माफिया पर कार्रवाई के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। आने वाले दिनों में परिणाम देखने को मिलेंगे। कोई भी माफिया कार्रवाई से बच नहीं पाएगा।
लवित भारती, डीएफओ शिवपुरी