निजामपुर में प्रदेश की पहली गौशाला का शुभारंभ, मंत्री लाखन सिंह यादव ने किया लोकार्पण | Shivpuri News

शिवपुरी। प्रदेश में गौवंश को संरक्षण प्रदान करने के लिए गौशालाएं निर्मित की जा रही हैं। आवारा गौवंश को संरक्षण मिले और उनकी बेहतर देखभाल हो, इसके लिए गौशालाएं तैयार की गईं हैं। प्रदेश के शिवपुरी जिले में गोशाला बनकर तैयार हो गयी है और यह प्रदेश में पहली गौशाला है जो सबसे पहले बनकर तैयार हो गयी है। इसका शुभारंभ शनिवार को प्रदेश के पशुपालन, मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने किया। यह गौशाला जिले के नरवर विकासखंड के निजामपुर में तैयार की गई है। लगभग 35 लाख की लागत से यह गौशाला बनकर तैयार हुई है।

शुभारंभ कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने संबोधित करते हुए कहा कि आज निजामपुर में प्रदेश की पहली गौशाला का लोकार्पण किया जा रहा है। प्रदेश में 10 लाख से अधिक गौवंश है। प्रथम फेज में 1000 गौशालाओं का लक्ष्य रखा गया। जिसमें स्मार्ट गौशाला भी तैयार की जा रही हैं। इस गौशाला को मोडल के रूप में ले। उन्होंने कहा कि दिसम्बर तक सभी गौशालाएं बनकर तैयार करने का लक्ष्य है।

प्रदेश के लिए 3 हजार गौशालाएं और स्वीकृत की हैं। उन्होंने कहा कि हम निराश्रित गौवंश को संरक्षण प्रदान करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। इसमे सरपंच ने पुरी मेहनत व लगन से कार्य किया है। इसके लिए उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। आवारा गौवंश को संरक्षण देने के लिए प्रदेश सरकार ने अभिनव पहल की है। मुख्यमंत्री गौसेवा योजना के अंतर्गत यह कार्य पूर्ण किया जा रहा है।

इसके साथ ही लगभग साढ़े 14 लाख की राशि से बनने वाली कब्रिस्तान बाउण्ड्री बाॅल एवं ईदगाह निर्माण कार्य, श्मशान घाट बाउण्ड्री बाॅल विस्तारीकरण एवं सीसी रोड़ निर्माण एवं सामूदायिक भवन का भी लोकार्पण किया गया।
 
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में पोहरी विधायक सुरेश राठखेड़ा, करैरा विधायक जसवंत जाटव, कमलेश सिंह तोमर, जिला पंचायत अध्यक्ष कमला बैजनाथ यादव, जनपद अध्यक्ष मुकेश खटीक, नरवर नगर पंचायत अध्यक्ष भीकम सिंह यादव, कलेक्टर श्रीमती अनुग्रह पी, जिला पंचायत सीईओ एच.पी.वर्मा, एसडीएम अरविंद वाजपेयी, सरपंच कुसुम सिंह तोमर सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं नरवर के आमजन उपस्थित थे।

विधायक सुरेश राठखेड़ा ने कहा कि इस गौशाला के बनने से क्षेत्र की जनता को लाभ मिलेगा। गाय का दूध, गोबर दोनों ही हमारे लिए लाभदायक हैं। उन्होंने ग्रामीणों से भी कहा कि वह भी दान देकर अपना योगदान दें। उपसंचालक पशुपालन ने बताया कि निराश्रित गौवंश के संरक्षण के लिए गौशाला बनाई जा रही हैं ग्राम स्तरीय समिति इसका बेहतर संचालन करे।