शिक्षको की तबादला सूची पर मचा बबाल,महिला शिक्षक जंगल में और पुरूष मंगल में | Shivpuri news

शिवपुरी। युक्ति-युक्तकरण और प्रशासनिक तबादलों के मामले में शिक्षा विभाग की नियत और नीति गुरुवार की देर शाम सोशल साइट पर सूची वायरल होने के बाद खुलकर सामने आ गई। इस सूची में जहां 195 शिक्षकों को खासतौर पर महिला शिक्षकों को दूरस्थ जंगली क्षेत्र के स्कूलों में पदस्थ किया गया है।

25 प्रशासनिक तबादलों में कई पुरुषों को शिवपुरी शहर और ब्लॉक मुख्यालय व सड़क किनारे के स्कूलों में पदस्थ कर उपकृत कर दिया गया है, जिससे कर्मचारी संघों व राजनीतिक दलों व कर्मचारी संघों के लेन देने के आरोप पुष्ट नजर आ रहे हैं।

प्रक्रिया में जिला शिक्षा अधिकारी कटियार द्वारा 25 प्रशासनिक तबादले किए गए हैं जिनमें कई शिक्षकों को शहर और उसके आसपास पदस्थ किया गया है। इनमें प्राथमिक शिक्षक बृजमोहन मौर्य को बदरवास के हाईस्कूल अगरा से जिला मुख्यालय से सटे हाईस्कूल सतनबाड़ा में पदस्थ कर दिया गया।

इसी तरह हाईस्कूल अटलपुर बदरवास के ऊदलसिंह चौहान को जिला मुख्यालय के हाईस्कूल फिजीकल में पदस्थ कर दिया गया। इसी तरह प्रावि ककरा जो दूरस्थ क्षेत्र में है, वहां पदस्थ कुसुम जादौन को ब्लॉक मुख्यालय पोहरी के कन्या प्रावि में पदस्थ कर दिया गया। वहीं खनियांधाना के खरगापुर में पदस्थ गोविंदसिंह निरंजन को प्रावि सड़ नरवर में पदस्थ किया गया है।

उपकृत करने का ऐसा ही मामला बदरवास के देहरदा गणेश में पदस्थ भगवत शरण पांडे के मामले में सामने आया है, जिन्हें दूरस्थ ग्रामीण स्कूल से प्रावि जगतपुर कोलारस में पदस्थ कर दिया गया है। वहीं पिछोर के प्रावि राजा छैवला में पदस्थ पुरुष शिक्षक रामप्रकाश शर्मा को ब्लॉक मुख्यालय पिछोर के प्रावि बदरवास में पदस्थ किया गया है।

इस प्रकाशित सूची में कई अन्य शिक्षक भी हैं, जिन्हें उपकृत किया गया है। हैरानी की बात यह है कि 195 शिक्षकों की अतिशेष सूची में कई महिला शिक्षकों को अमोलपठा, विची, पाडरखेड़ा, मोहनगढ़, इमलिया, खुटैला, ढकरौरा, रामपुर, खरई व डावर, विजयपुरा, सहराना सुनाज जैसे दूरस्थ जंगली क्षेत्रों में पदस्थ किया गया है, जो कांग्रेस-भाजपा व कर्मचारी संघों के उन आरोपों को पुष्ट कर रही हैं, जिसमें पूरी प्रक्रिया में लेनदेन कर दोहरा रवैया अपनाने के आरोप सामने आए हैं।

कलेक्टर से मिलूंगा, सिंधिया के सामने बात रखूंगा
शिक्षा विभाग ने शाम को तबादला सूची जारी की है। महिला शिक्षकों को रोड किनारे के स्कूलों की जगह दूरस्थ गांवों में करना गलत है। सूची का अवलोकन करुंगा, फिर शुक्रवार को कलेक्टर से मिलूंगा। 30 नवंबर को हमारे नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने भी बात रखूंगा।
बैजनाथ सिंह यादव, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस कमेटी जिला शिवपुरी

कांग्रेस सरकार जब से बनी है, पार्टी के नेता खुद की जेब भरने में लगे हैं
कांग्रेस सरकार जब से बनी है, पूरा साल स्थानांतरण में निकाल दिया है। पार्टी के नेता खुद की जेब भरने में लगे हैं। तबादलों को धंधा बना लिया है। इनके पास कोई नीति नहीं हैं। महिलाओं को ऐसे गांवों में भेजा, जहां पुरुष शिक्षक भी जाने तैयार नहीं हैं। कांग्रेस वचन पत्र के वादों को नहीं निभा रही।
सुशील रघुवंशी, जिलाध्यक्ष, भाजपा जिला शिवपुरी