आरोप: रिश्वत नही दी तो मेरे नवजात को मार दिया, रोते हुए पिता का आरोप, VIDEO

कोलारस। खबर जिले के कोलारस अनुविभाग के लुकवासा चौकी क्षेत्र के उप स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ एक नर्श पर एक युवक ने रिश्वत नहीं देने पर नबजात बेटे को मारने का आरोप लगाया है। पीडित पिता का आरोप है कि उक्त नर्श को जब रिश्वत नहीं दी तो उसने असुरक्षित तरीके से उसकी पत्नि की डिलेवरी की। जिसके चलते उसके मासूम की मौत हो गई। इस मामले की शिकायत पीडित ने लुकवासा चौकी में मासूम की लाश रखकर दी।

जानकारी के अनुसार आज सुबह विनोद धानुक की पत्नि शांति बाई को प्रसब पीडा हुई। विनोद अपनी पत्नि को लेकर उप स्वास्थ्य केन्द्र लुकवासा पर लेकर आए। आरोप है कि वहां उसे कोई डॉक्टर नहीं मिला। अस्पताल में वहां नर्श आरती कबीर और एक बाई शीला मिली। जिन्होंने जाते से ही विनोद से अभ्रदता की। उसके बाद आरोप है कि आरती कबीर बोली कि आप कहा से आ जाते हो मेरे सिर में दर्द हो रहा है पहले हम दोनों के लिए चाए लेकर आओ।

उसके बाद पीडित उनके लिए चाय लेकर आ गया। उसके बाद आरोप है कि नर्स ने उक्त पीडित से कहा कि अस्पताल में 200 रूपए लगते है वह जमा कराओ तभी डिलेवरी हो पाएगी। उसपर से पीडित ने घर जाकर पैसे लाने की बात कही। पीडित युवक पैसे लेने घर चला गया। लौटकर आया तो उक्त नर्स बाई के साथ मिलकर डिलेवरी कर रही थी। डिलेवरी के बाद जैसे ही बाहर निकली तो उन्होंने कहा कि बच्चा रो नहीं रहा है। ऐसा कहकर बच्चे को जिला चिकित्सालय रैफर कर दिया।

उक्त पीडित युवक मासूम को लेकर जिला चिकित्सालय पहुंचा। जहां डॉक्टरों ने मासूम का चैकअप कर कह किया कि यह तो पहले से ही मृत है। जिसपर से परिजन भडक गए। परिजनों का आरोप है कि उक्त नर्स ने रिश्वत नहीं मिलने पर उसके बेटे को खत्म कर दिया हैै। जिसपर से पीडित ने उक्त मामले की शिकायत अस्पताल प्रबंधन सहित पुलिस चौकी लुकवासा में की। जहां प्रबंधन ने मामले की जांच के बाद कार्यवाही का आश्वासन दिया। उसके बाद पीडित मासूम की लाश को लेकर लुकवासा चौकी पहुंचा। जहां लाश को थाने में रखकर कार्यवाही की मांग की। जिसपर पुलिस ने भी पीडित को कार्यवाही का आश्वासन देकर चलता कर दिया। मासूम की मौत के बाद मां का रो रो कर बुरा हाल है। 

इनका कहना है
आज सुबह एक महिला को बाईक से उसका पति लेकर आया था। उसे छोडकर पति चला गया था। हमने उसकी डिलेवरी की। डिलेवरी 9 माह बीत जाने के बाद की थी। जिसके चलते बच्चे ने पेट में ही गंदा पानी और ब्लड पी लिया था। जिससे उसे सांस लेने में दिक्कत आ रही थी। हमने आक्सीजन लगाकर बच्चे को शिवपुरी रेफर कर दिया। अब वह तो बच्चा खत्म हो जाने के बाद बच्चे में थप्पड मारने सहित रिश्वत के आरोप लगा रहा है। वह तो लगते ही रहते है।
आरती कबीर,नर्स

हां मामला का आवेदन पीडित ने मुझे भी दिया है। जिसमें पीडित ने नर्स पर बच्चे के साथ मारपीट और रिश्वत का आरोप लगाया है। जिसपर से मेने आवेदन को बीएमओ मैडम के पास भेज दिया है। अब वह ही इसमें जांच कराएंगी।
गोपाल डंडौतिया,आयुष अधिकारी लुकवासा