टेंट के नाम पर लाखों खर्च, नगर सरकार आपके द्धार कार्यक्रम में नहीं आए शिकायतकर्ता | Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी नगर पालिका द्वारा लोगों की समस्याओं के निराकरण के लिए शनिवार को आयोजित किए गए नगर सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में जनता ने दूरिया बनाई। सरकार द्वारा आयोजित इस तरह के समस्या निवारण शिविरों से आम जन का मोहभंग हो चुका हैं। क्योंकि चाहे वह जनसुनवाई हो  या  आपके द्वार आपकी सरकार कार्यक्रम यहां पर अधिकारी सिर्फ आवेदन लेकन अपने से वरिष्ठ अधिकारी के लिए फॉरवर्ड कर दिया जाता हैं लेकिन हल नहीं निकलता हैं। जिससे आवेदक वैसे ही समस्या से परेशान रहता हैं लेकिन आवेदन पर खर्च हुए पैसे का सदुपयोग नहीं होता साथ ही समय की बर्वादी करना हैं क्योंकि अधिकारी आवेदकों की समस्याओं का निराकरण ही नहीं करते हैं।

इस आज आयोजित कम्यूनिटी हॉल में नगर सरकार आपके द्वारा कार्यक्रम चंद अधिकारियों के बीच बाबूओं की उपस्थिति तो थी लेकिन शिकायत कर्ता इक्का दुक्का को छोड़ लोगों ने दूरिया बना ली जबकि कुछ लोगों का तो यह कहना था कि पास में ही लगे गंदगी को ढेर को नगर पालिका नहीं हटा पा रही हैं तो क्या लोगों की समस्याओं का हल करेगी।

जानकारी के अनुसार प्रदेश के मुख्यमंत्री कलनाथ द्वारा चलाई जा रही योजना एक ही छत के नीचे सारी समस्याओं के निरावरण शिविर के तहत आज कम्यूनिटी हॉल कार्यक्रम स्थल पर खाली कुर्सियां पड़ी रही और लाखों रुपए का टेंट नगर पालिका ने इस शिविर के नाम पर लगवा गया जिसकी कोई आवश्यकता ही नहीं थी क्योंकि जब शिविर कम्यूनिटी हॉल में लगाना था तो बाहर टेंट लगाने की क्या आवश्यकता थी लेकिन टेंट लगा भी तो टीक लेकिन जब कम्यूनिटी हॉल के अंदर लगे विभागीय स्टॉलों पर भी शिकायत करने वाले अभ्यर्थी ही नजर नहीं आ रहे थे तो फिर टेंट तो खाली तो रहना ही था।

इतना ही नहीं मंच पर नगर पालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह सहित अधिकारी और कुछ पार्षद मौजूद रहे लेकिन जनता यहां से नदारद रही। गौरतलब है कि प्रदेश सरकार के निर्देश पर नगर सरकार आपके द्वार कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है जिसमें लोगों की समस्याओं के आवेदन लेना और उनका निराकरण करना इसका मुख्य उद्देश्य था। शनिवार को वार्ड क्रमांक 2,3, 4,5, 6 का कैंप लगाया गया था लेकिन इन 5 वार्डों की जनता ने इस शिविर का अघोषित बहिष्कार कर दिया और लोग अपनी समस्याओं को लेकर के नहीं आए।

इसका कारण यह रहा कि नगरपालिका ने इस कैंप को लेकर कोई प्रचार-प्रसार नहीं किया जिसके कारण जनता ने इस कैंप से दूरी बना ली। यह शिविर खानापूर्ति नजर आया और लाखों रुपए का टेंट यहां पर लगाया गया। अब इसका फर्जीवाड़ा करते हुए नगर पालिका के अधिकारी भुगतान कर लाभ पहुंचाने की जुगत में हैं। लेकिन जनता को इससे कोई फायदा नहीं हुआ।