साक्षी सुसाईड अपडेट: St Benedict'S School की STUDENT थी, आज ही गांव से लौटी थी

शिवपुरी। आज पानी की टंकी पर चढकर पुलिस के सामने ही आत्महत्या करने के मामले में अभी भी गुत्थी उलझी हुई है कि आखिर कक्षा 12 की छात्रा ने उक्त कदम उठाया क्यों है। पुलिस इस मामले में हर पहलू से जांच कर रही है। बताया जा रहा है कि उक्त छात्रा पानी की टंकी पर ही किसी से फोन से बात कर रही थी। परंतु कूंदने के बाद पुलिस ने पूरे क्षेत्र की गहन सर्चिंग की परंतु वहां मोबाईल पुलिस को नहीं मिला है। पुलिस ने टंकी पर उपर चढकर सुसाईड नोट की भी तलाशी ली परंतु वहां भी कुछ नहीं मिला।

विदित हो कि साक्षी तिवारी पुत्री ब्रजेश तिवारी निवासी रन्नौद हाल निवासी प्रियदर्शनी कॉलोनी में किराए के मकान में रहते थे। म्रतिका के पिता ब्रजेश तिवारी पेटी कॉन्ट्रेक्ट लेकर अपने परिवार का पालन कर रहे थे। म्रतिका साक्षी तिवारी सेंट बेनेडिक्ट स्कूल में कक्षा 12 की छात्रा थी। बताया जा रहा है कि उक्त छात्रा बीते कुछ दिनों से अपने गांव में दादा दादी के पास रह रही थी। बताया यह भी जा रहा है कि वह आज ही अपने गांव रन्नौद से शिवपुरी आई।

शिवपुरी आकर छात्रा घर पर नहा कर कपडे डालकर अचानक घर से गायब हो गई। परिजन छात्रा को खोजने बाणगंगा क्षेत्र में खोज रहे थे। परंतु छात्रा केपी सिंह की कोठी के पास स्थिति पानी की टंकी पर चढ गई। तत्काल इस मामले की सूचना फिजीकल पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और छात्रा को नीचे उतरने का आग्रह किया। देखते ही देखते वहां भीड लग गई। पुलिस लगातार छात्रा से नीचे उतरने का आग्रह करती रही। परंतु वह उपर महज इस डर से नहीं चढी कि कही छात्रा पुलिस को देखकर छलांग लगा दे।

परंतु छात्रा उपर टंकी पर फोन से बात करते करते एकदम से उठी और पहले जहां खडी थी ठीक उसके दूसरी और जाकर फिर बैठ गई। उसके बाद अचानक कोई कुछ सोच पाता छात्रा ने उपर से छलांग लगा दी। पुलिस तत्काल उक्त छात्रा को डायल 100 में डालकर जिला चिकित्सालय पहुंची जहां डॉक्टरों ने छात्रा का चेकअप कर उसे म्रत घोषित कर दिया। यहां सबसे अहम बात यह रही कि यहां उपस्थिति पब्लिक सहित पुलिस महज तमाशवीन बनी रही। परंतु वह छात्रा को बचाने के लिए कुछ नहीं कर पाई।

इनका कहना है
हम हर पहलू से मामले की जांच कर रहे है। छात्रा के पास मोबाईल की बात सामने आ रही है। परंतु उसका भाई मोबाईल न होने की बात कह रहा है। पुलिस ने भी सर्चिंग कर मोबाईल को खोजा परंतु मोबाईल नहीं मिला। हम छात्रा के दादा दादी से भी पूछताछ करेंगें। अब यह तो जांच के बाद ही क्लीयर होगा कि उसने यह कदम उठाया क्यों
दीप्ती तोमर,थाना प्रभारी फिजीकल