विश्व आदिवासी दिवस: आदिवासी संस्कृति की छटा बिखरी, होनहार छात्र-छात्राओं का हुआ सम्मान | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर जिला स्तरीय मुख्य कार्यक्रम जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती कमला-बैजनाथ यादव की मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ।

कार्यक्रम में नगर पालिका परिषद शिवपुरी के अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बैजनाथ सिंह यादव, विधायक पोहरी  सुरेश राठखेड़ा, विधायक कोलारस वीरेन्द्र रघुवंशी, जनपद पंचायत करैरा की अध्यक्ष श्रीमतीवती आदिवासी, जिला पंचायत सदस्य श्रीमती कोसा बाई, कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी, पुलिस अधीक्षक  विवेक अग्रवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  एच.पी.वर्मा, अपर कलेक्टर आर.एस.बालोदिया, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गजेन्द्र सिंह कंवर, डिप्टी कलेक्टर एवं प्रभारी जिला संयोजक कु.पल्लवी बैध सहित जनप्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में आदिवासी समुदाय के लोग उपस्थित थे।

इस अवसर पर कलाकारों द्वारा परम्परागत परिधानों एवं बाद्धयंत्रों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से आदिवासी संस्कृति की छटा बिखेरी, कार्यक्रम में कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में प्रवीण्य सूची में स्थान प्राप्त करने वाली कु.मानषी आदिवासी और आकाश आदिवासी को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कमला यादव ने सभी लोगों को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं दी।

CM ने आदिवासियों की भावना को सम्मान करते हुए 09 अगस्त को किया अवकाश

विधायक श्री सुरेश राठखेड़ा ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यह बड़ी खुशी की बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने आदिवासी समुदाय की भावना का सम्मान करते हुए 09 अगस्त को प्रदेश में अवकाश घोषित किया है।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार आदिवासी वर्गों के आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक स्तर को उठाने हेतु अनेको योजनाएं संचालित की है। आवश्यकता इस बात की है कि आदिवासी भाई-बहन अपने बच्चों को पढ़ने-लिखने हेतु स्कूल भेजे और योजनाओं का लाभ लेने के लिए आगे आए। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के कल्याण के लिए हमेशा तत्पर रहेंगे।

आदिवासी वर्ग का देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा

विधायक  वीरेन्द्र रघुवंशी ने अपने उद्बोधन में कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकारों का हमेशा प्रयास रहा है कि आदिवासी वर्ग जो समाज के अंतिम छोर पर निवास करता है, उसका विकास पहले हो। इसके लिए सरकारों ने उनके उत्थान की अनेकों योजनाएं संचालित की है। लेकिन जानकारी के अभाव में वे लाभ नहीं ले पा रहे हैं।इसलिए सभी आदिवासी भाई अपने बच्चों की शिक्षा पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि आदिवासी वर्ग का देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। हम सब की जवाबदारी है कि आदिवासी वर्ग को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना होगा।

आदिवासी परिवार अपने बच्चों को महाविद्यालय तक की शिक्षा दिलाए

कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने विश्व आदिवासी दिवस पर सभी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि शासन आदिवासी वर्ग की भलाई के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है। आदिवासी वर्ग को शासन द्वारा आरक्षण, छात्रवृत्ति एवं स्वरोजगार योजनाओं का लाभ लेकर अपने स्तर का उन्नयन करना होगा।

श्रीमती अनुग्रहा पी उपस्थित आदिवासी परिवारों के महिला एवं पुरूषों से आग्रह किया कि वे विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आज संकल्प लेकर जाए कि वे अपने सभी बच्चों को स्कूल भेजने के साथ-साथ महाविद्यालय तक की शिक्षा उपलब्ध कराए। कार्यक्रम में वनमण्डाधिकारी श्री लवित भारती ने कहा कि वन विभाग से आदिवासियों का सीधा संपर्क है, विभाग द्वारा आदिवासी वर्गों के उत्थान के लिए अनेको योजनाएं संचालित की है। जिनका लाभ इस वर्ग के लोग प्राप्त कर रहे है।