Ads 720 x 90

NCC की सीनियर बिंग बंद, छात्राएं परेशान, हाईकोर्ट में दायर की याचिका

करैरा। करैरा के शासकीय कन्या माध्यमिक उच्चतर विद्यालय में संचालित एनसीसी प्लाटून बीटू सीनियर बिंग के बंद हो जाने से वहां प्रशिक्षणरत छात्राओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है। जिनकी ट्रेनिंग ट्रेंड ऑफिसर और वरिष्ठ अधिकारियों के बीच चल रही खींचतान के कारण अधर में लटक गई है। इस मामले में पीडि़त छात्राओं के परिजनों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर एनसीसी प्रशिक्षण को प्रारंभ कराने की मांग की है।

वहीं इस मामले में विद्यालय की प्रशिक्षण अधिकारी एएनओ ले. कविता लोधी ने तत्कालीन सीईओ कर्नल एपी त्रिपाठी और सूवेदार मेजर राजेंद्र चौहान पर द्ववेषपूर्ण भावना से प्रशिक्षण बंद कर छात्राओं के भविष्य से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। एएनओ कविता लोधी के अनुसार 25 प्रशिक्षणरत छात्राएं रेग्यूलर हैं। जो बीच में ट्रेनिंग खत्म हो जाने से काफी परेशान हैं।

एएनओ ले. कविता लोधी ने जानकारी देते हुए बताया कि 35 एमपी बटालियन एनसीसी शिवपुरी के तत्कालीन सीईओ कर्नल एसी  त्रिपाठी द्वारा शासकीय कन्या माध्यमिक उच्चतर विद्यालय करैरा की सीनियर ङ्क्षबंग को सस्पेंड करने का   निर्देश वर्ष 2018 में बिना कोई कारण बताए दिया था और उसके बाद से ही विद्यालय में एनसीसी की ट्रेनिंग बंद कर दी गई।

जबकि उस समय 53 छात्राएं सीनियर बिंग में प्रशिक्षणरत थीं। जब उन्होंने बिना नोटिस दिए प्रशिक्षण बंद करने पर वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत की तो एसएम राजेंद्र चौहान और तत्कालीन सीईओ एपी त्रिपाठी ने एक कारण बताओ नोटिस जारी किया। जिसमें उन्होंने उल्लेख किया है कि वह बटालियन में होने वाली गतिविधियों में भाग नहीं लेते।

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत सर्जिकल स्ट्राईक डे न मनाना, मई 2018 के ऑडिट के दौरान एनसीसी की छात्राओं का ट्रेनिंग स्तर 50 प्रतिशत से कम होना बताया। इस नोटिस का जबाव उन्होंने प्रमाण सहित दोनों अधिकारियों को दिया। लेकिन एक पक्षीय कार्रवाई कर एनसीसी की ट्रेनिंग बंद कर दी।

बाद में तत्कालीन सीईओ एपी त्रिपाठी के स्थान पर श्री सिसौदिया को सीईओ बनाया गया। जिन्होंने जुलाई 2019 में 25 छात्राओं को रेग्यूलर करने का आदेश दिया। लेकिन प्रशिक्षण शुरू नहीं किया गया। वहीं स्कूल के प्राचार्य अरविंद त्रिपाठी ने निर्देश जारी किए हैं कि प्रशिक्षण बंद होने के कारण 15 अगस्त को होने वाली परेड में विद्यालय की छात्राएं भाग नहीं लेंगी।

शासकीय स्कूलों से एनसीसी बंद कर प्रायवेट स्कूलों में दिया जा रहा है बढ़ावा

एएनओ ले. कविता लोधी के अनुसार करैरा सहित मुंगावली व ईसागढ़ के शासकीय विद्यालयों की एनसीसी निरस्त कर दी गई है वहीं प्रायवेट स्कूलों में एनसीसी प्रदान की गई है। शिवपुरी जिले के  हैप्पी डेज स्कूल में एनसीसी प्रदान करने से यह स्पष्ट हो गया है कि शासकीय विद्यालयों में एनसीसी को हटाकर निजस्वार्थों की पूर्ति के लिए अधिकारीगण एनसीसी को प्रायवेट स्कूलों में बढ़ावा दे रहे हैं।

जिससे प्रतीत होता है कि इस संस्था का निजीकरण किया जा रहा है। इसके बाद भी एनसीसी के अधिकारी एडीजे, ग्रुप कमांडर व जिला शिक्षा अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। उन्होंने इस तुगलकी फरमान को लेकर कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी सहित बीईओ को अवगत कराकर समाधान करने का निवेदन किया। लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया वहीं विद्यालय के प्राचार्य भी इस मामले को लेकर उदासीन है और उनका यह रवैया किसी साजिश की ओर इशारा करता है।