LOAN का झांसा देकर आधा सैकड़ा महिलाओं से ठगी, पुलिस बोली जांच के बाद होगी कार्यवाही | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम नोहरीखुर्द की आधा सैंकड़ा से अधिक महिलाओं को लोन दिलाने का झांसा देकर मुकेश रावत नामक युवक ने उनसे 500-500 रूपए की वसूली कर ली। इसके बाद कथित आरोपी ने महिलाओं से 500-500 रूपए और मांगे तथा कहा कि यह रूपए वह एक अधिकारी महिला जो उनके पास आ रही है को दे देना।

वह महिला लोन का चेक और बैंक की पासबुक भी उन्हें दे देंगी, लेकिन कथित अधिकारी महिला के हुलिए को देखकर ग्रामीण महिलाओं को शक हुआ और उन्होंने उसे पकडक़र पुलिस को सौंप दिया। पकड़ी गई महिला ने अपने आपको निर्दोष बताते हुए अपना नाम वंदना शर्मा निवासी कृष्णपुरम कॉलोनी शिवपुरी बताया है। उसके अनुसार वह रिटायर्ड फॉरेस्ट एसडीओ की पुत्री है ।

ठगी  का शिकार हुई महिलाओं में से एक शीला कुशवाह ने बताया कि तीन माह पहले मुकेश रावत नामक युवक हमारे गांव में आया और उसने कहा कि एक-एक लाख रूपए का लोन गांव की महिलाओं का मंजूर  हो गया  है। अपना  आधार कार्ड और बैंक खाते की फोटो कॉपी के साथ 500-500 रूपए दे दो। इसके एवज में सभी महिलाओं को एक-एक लाख का लोन मिलेगा। गरीब महिलाओं ने सोचा कि एक लाख  रूपए से  वह अपने व्यवसाय को बढ़ा लेंगी  और वह मुकेश के झांसे  में आ गईं और 60 महिलाओं ने अपने अपने दस्तावेज के साथ 500-500 रूपए मुकेश को सौंप दिए।

मुकेश अपना मोबाइल नम्बर  भी देकर गया। वह लगातार महिलाओं को फोन करके बताता रहा कि लोन की प्रक्रिया चल रही  है, लेकिन इसके बाद न उसने फोन लगाया और फोन उठाना भी बंद कर दिया। दो दिन पहले मुकेश ने फोन पर कहा कि सभी का लोन पास हो गया है। भोपाल से एक मैडम आएंगी और तुम उन्हें 500-500 रूपए दे देना वह तुम्हें दो  दिन बाद चेक दे देंगी।  

लोन स्वीकृत होने की बात सुनकर एक दर्जन से अधिक महिलाएं मुकेश द्वारा बताए गए स्थान पोहरी रोड़ पर पहुंच गई। महिलाओं ने जब उक्त मैडम से सवाल पूछे तो वह उनका सही ढंग से जवाब नहीं दे सकी और महिलाओं को लगा कि यह अधिकारी नहीं हो सकती। महिलाओं ने अपना शक जाहिर किया तो कथित अधिकारी महिला ने वहां से भागने का प्रयास किया, लेकिन महिलाएं उसे पकडक़र कोतवाली ले आई और पुलिस के हवाले कर दिया।

महिलाओं ने इस  मामले में ठगी का प्रकरण कायम करने की मांग की, लेकिन समाचार लिखे जाने तक पुलिस यही कह रही  है कि इस मामले में अभी जांच चल  रही है और जांच के बाद फैसला किया जाएगा कि प्रकरण कायम किया जाए या नहीं।