अधिकारियों ने कचरे को चना बताकर पास कर दिया | Shivpuri News

शिवपुरी। भांवातार खरीदी में लगातार भ्रष्टाचार की खबरे आ रही हैं, अनाज की बोरियो में कचरा मिलाने की मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन जिला स्तर पर बनाई गई जांच समिति को इन बोरियो में कचरा नही दिखता। बदरवास की गायब हुई सरकारी पंचनामा बनी 1500 बोरी चने के बाद शिवपुरी में लगभग 4 सैकडा चने की कचरा बोरी पाई गई है जिसे जांच समिति ने चैक कर पास की थी।

नई अनाज मंडी में पैक्स सोसायटी ठर्रा द्वारा खरीदे गए चने के मामले में शनिवार को नया खुलासा हुआ। समर्थन मूल्य पर खरीदी के बाद शुक्रवार को जिला स्तरीय जांच समिति ने यहां 15 बोरों में ही मिलावट की पुष्टि की थी। लेकिन दूसरे ही दिन सोसायटी से ट्रकों में चना भरकर बालाजी वेयर हाउस पर भंडारण के लिए पहुंचा तो यहां माल की जांच की गई।

भंडारण से पहले जांच करने पर चने के 395 बोरों में मिट्‌टी और कचरा मिला पाया गया। जबकि एक दिन पहले केंद्र पर पहुंचकर अधिकारियों ने मामूली बोरों में मिलावट की बात कही थी। इस तरह अधिकारी ही दाेषियाें काे बचाने की कोशिश में लगे थे।

बालाजी वेयर हाउस पर पदस्थ सर्वेयर प्रवीण चाहर, गोदाम कर्मचारी और एमपी हाउसिंग बोर्ड के कर्मचारी ने मिलकर ट्रकों में रखी बोरियों की जांच की। ठर्रा सोसायटी की ओर से 5 ट्रक भेजे गए थे। इसमें से 395 बोरों में मिट्टी व कचरा मिला चना पाया गया। इस मिलावटी चने को गोदाम में न रखते हुए बाहर रखवा दिया है।

इसकी सूचना सोसायटी प्रबंधक को देकर मौके पर बुलवाया गया। अमानक चना पकड़े जाने पर सोसायटी प्रबंधक ने वापस लेने के लिए लिखित में आश्वासन दिया है। अमानक चना भंडारण से पहले ही पकड़े जाने पर प्रभारी कलेक्टर एचपी वर्मा ने कार्रवाई की बात कही है। शुक्रवार तक अधिकारी प्रभारी कलेक्टर को ही गुमराह करने में लगे थे।

लेकिन शनिवार को मामला बड़े स्तर का पाए जाने के बाद अधिकारियों की कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। जिला स्तरीय समिति में शामिल अधिकारियों ने स्वयं एक भी अमानक चने का केस नहीं पकड़ा। जिले में बड़े स्तर से अमानक चना खपाए जाने की आशंका जाहिर की जा रही है। अमानक चना गोदाम में रखने से मना किया, सोसायटी प्रबंधक ने लिखित में स्वीकारा कि अमानक चना उठवाएंगे

समिति प्रबंधक की तरफ से लिखित में दिया है कि ठर्रा सोसायटी के 395 बोरे सर्वेयर की जांच में नोन एफएक्यू पाए गए। जिसको मैं चलना लगवाकर साफ करवाकर पुन: बालाजी वेयर हाउस में जमा कराऊंगा। मेरे 120 बोरे जो नोन-एफएक्यू हैं वो ट्रक में लोड हो गए हैं। बाकी 275 बोरे उठवाकर गाड़ी में लोड कराकर ले जाऊंगा। ट्रक में लोड 120 बोरों को गोदाम परिसर में रखा हुआ है।

इस मामले यह सिद्ध् होता है कि जिला स्तर की जांच समिति में बैठे अधिकारियो के द्धारा जमकर घूसखोरी सामने आ रही हैं। समिति के चेहरे पर भ्रष्टाचार का ऐसा चश्मा लगा हैं जिससे समिति के कर्ताधर्ताओ को बोरियो में कचरा नही दिखता हैं इस मामले में समिति पर भी कार्रवाई होनी चाहिए।

इससे पूर्व बदरवास के श्रीगणेशाय नम: वेयर हाउस पर भी 1500 बोरी चने की अमानक मिली और मौके पर जिले की खादय विभाग की टीम चैक कर पंचनामा भी बनाया था,लेकिन जांच समिति ने इन कचरा मिली बोरियो को एनओसी दे दी। इन बोरियो को भी अब गोदामो में सैट कर दिया गया हैं।

हम अमानक चने का भंडारण बिलकुल नहीं होने देंगे

हम पहले ही मिलावट पकड़कर शिकायत कर चुके हैं। अाज ट्रकाें में 395 बाेराें में नाेन-एफएक्यू चना निकला है। जिसमें मिट्‌टी व कचरा भरा है। सोसायटी प्रबंधक को बुलाकर माल वापस लौटा दिया है। हम अमानक चने का भंडारण नहीं होने देंगे। कार्रवाई क्या होना है, यह प्रशासन की जिम्मेदारी है।
दीपक राजपूत, प्रतिनिधि नाफेड शिवपुरी

रविवार की छुट्‌टी है, सोमवार को जांच करवाई जाएगी

शुक्रवार को जांच के दौरान हमें 15 बोरे ही अमानक मिले थे। भंडारण के दौरान अमानक बोरे निकलने की कोई जानकारी नहीं है। रविवार की छुट्‌टी है, इसलिए इस मामले की सोमवार को जांच कराएंगे। इस मामले में किसी भी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाएगी।
नारायण शर्मा, नोडल एवं जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी शिवपुरी

यदि सर्वेयर में अमानक चना पास कर दिया है तो तौलने से पहले सोसायटी को देखना था। मुझे 15 बोरे अमानक की सूचना दी गई थी। भंडारण के दौरान अमानक निकले 395 बोरों के मामले की जांच कराई जाएगी। मामले में जो भी जिम्मेदार हाेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई जरूर की जाएगी।
एपी वर्मा, प्रभारी कलेक्टर शिवपुरी