सिंध जलावर्धन योजना: नपाध्यक्ष मुन्ना अपने ही वार्ड में नहीं डला पाए पाईप लाईन,शहर आखिर किस आस पर रहे

शिवपुरी। लंबे समय से म्रग मारीच बनी सिंध जलार्वधन योजना पूरी तहर से भ्रष्टाचार की भेंट चढ गई है। जिसके चलते शहर में पानी के लिए त्राहि त्राहि मची है। परंतु शिवपुरी नगर पालिक के कान पर जू तक नहीं रेंग रही है। इसका खामियाजा कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार के रूप में उठा चुके है।  परंतु शहर में सिंध महज एक आस बनकर रह गई है। हालात यह है कि आधे शहर में सिंध जलावर्धन योजना की सप्लाई का दाबा करने बाली नपा के नपाध्यक्ष के वार्ड मेंं ही अभी तक सिंध की लाईन नहीं पहुंची  हैँ

शिवपुरी में सिंध जलावर्धन योजना के तहत वितरण लाइन बिछाने का काम मनमाने तरीके से हो रहा है जहां आबादी नहीं है और लोग निवास नहीं करते वहां तो वितरण  लाइन डाली जा रही है और यह लाइन किसके इशारे पर (भूमाफिया) डाली जा रही है, कौन नहीं जानता और इस वितरण लाइन डालने में भी भ्रष्टाचार के चर्चे हैं जबकि जहां आबादी है और लोग निवास करते हैं तथा वितरण लाइन के लिए कनेक्शन लेने वाले उपभोक्ता है वहां वितरण लाइन नहीं डाली जा रही।

यहां तक कि नगरपालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह के वार्ड में श्रीराम कॉलोनी के कुछ हिस्सों में अभी तक वितरण लाइन नहीं डाली गई है ऐसे में सिंध जलावर्धन योजना का लाभ वहां रहने वाले लोगों को कैसे मिलेगा यह एक बड़ा सवाल है। सीएमओ केके पटेरिया ने बताया कि अभी तक 45 से 50 फीसदी लाइन बिछाई जा चुकी है। जहां वितरण लाइन बिछना रह गई है वहां लाइन बिछाने के साथ साथ नल कनेक्शन देने का काम भी किया जा रहा है।

कल नगरपालिका परिषद की बैठक में अधिकतर पार्षदों ने अपने अपने वार्डों मेें अभी तक नई लाइन नहीं बिछने पर खुलकर नाराजगी जताई। यहां तक कि उपाध्यक्ष अनिल शर्मा अन्नी और पूर्व उपाध्यक्ष भानू दुबे, रेखा गब्बर परिहार आदि ने नगरपालिका अधिकारियों से पूछा कि सप्लाई लाइन कहां कैसे बिछाई जा रही है। उन्होंने अधिकारियों से इसकी प्लानिंग के बारे में भी पूछा जिस पर अधिकारी चुप्पी साध गए। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया की शिवपुरी शहर से जो करारी हार हुई है।

उसमें महत्वपूर्ण भूमिका शिवपुरी नगरपालिका की भी है और जिस अंदाज में पिछले पांच साल में कांग्रेस ने नगरपालिका चलाई है उससे आने वाल ेनगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस की संभावनाएं काफी क्षीण हैं, लेकिन इसके बाद भी ऐसे कोई कार्य नहीं किए जा रहे जिससे नगरपालिका के प्रति विश्वास नए सिरे से उत्पन्न हो। नगरपालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह का पिछला पांच साल का कार्यकाल ऐसा नहीं रहा जिसे याद किया जा सके, लेकिन अभी भी उनके पास तीन से चार महीने हैं जिसमें वह अपनी दमखम  दिखाकर न खुद अपनी बल्कि कांग्रेेस के प्रति भी जनता के विश्वास को जीत सकते हैं।

2815 रूपए में मिलेगा नल का कनेक्शन
कल नगरपालिका परिषद की बैठक में तय किया गया कि जल उपभोक्ता को 2815 रूपए में पानी का कनेक्शन मिलेगा। जो ठेकेदार कनेक्शन देगा उसे टोंटी पाइप से लेकर जो भी सामान लगेगा देना होगा। उपभोक्ता से एनओसी लाकर भी नपा को देनी होगी। तब ठेकेदार को भुगतान होगा। मेंटीनेंस की जिम्मेदारी भी ठेकेदार की होगी।