मोदी लहर में बह गए महाराज और ​शिवपुरी-गुना लोकसभा वासियों 250 साल पुराने संबंध: सिंधिया हार की ओर अग्रसर

शिवपुरी। वैसे अभी तक यही कहा जाता था कि शिवपुरी-गुना लोकसभा वासियो के ग्वालियर राजघराने के ढाईसौ साल पुराने संबंध हैं। इन्ही सबंधों के बल पर आज तक सिंधिया राजघराना अजेय था,लेकिन देश में चल रही मोदी की आंधी में यह रिश्ते तिनके की तरह उड गए। और ग्वाह बन चुकी है। इस लोकसभा की ईव्हीएम की मशीने।

इतिहास पलटने की ओर ओर इतिहास बनने की अग्रसर हो रहा है। अभी तक अजेय समझे जाने वाले राजघराने के सदस्य महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया लगभग 1 लाख वोटो से पीछे चल रहे है वो भी उनके शार्गिद से।

शिवुपरी-गुना लोकसभा सीट पर टोटल 11 लाख 70 हजार वोटो का मतदान हुआ है। अभी तक के रूझानो में 822163 मतो की गणना हो चुकी हैं। इस गणना में सांसद सिंधिया 1 लाख से अधिक मतो से पीछे  चल रहे हैंं। अब 347837 मतो की गणना बाकी है। आंकडेा पर नजर डाले तो सांसद सिंधिया अब हार चुके है। उन्हे इस लीड को कवर करने के लिए बचे हुए मतो में से 2 लाख से भी ज्यादा वोट लाने होंगें। लेकिन ऐसा अब संभव दिख रहा है। इतिहास पलटने की ओर अग्रसर हो रहा है।